घाटी में भाजपा के सामने 370 व अफस्पा की खाई

पीडीपी ने शनिवार को जम्मू कश्मीर में नई सरकार के गठन के लिए उसे लुभा रही भाजपा के सामने कड़ी शर्तें रखीं और कहा कि अनुच्छेद-370 को हटाने के खिलाफ उसके रुख पर कोई समझौता नहीं हो सकता। पीडीपी ने संकेत दिए कि उसके लिए भाजपा के साथ काम करना मुश्किल हो सकता है। पीडीपी […]

BJP, PDP, BJP PDP Alliance, Mehbooba Mufti, J&K Govt, Jammu Kashmir
या तो महबूबा खुद अपनी विरासत संभालें या किसी और को अपनी जगह बिठाने का काम करें।

पीडीपी ने शनिवार को जम्मू कश्मीर में नई सरकार के गठन के लिए उसे लुभा रही भाजपा के सामने कड़ी शर्तें रखीं और कहा कि अनुच्छेद-370 को हटाने के खिलाफ उसके रुख पर कोई समझौता नहीं हो सकता। पीडीपी ने संकेत दिए कि उसके लिए भाजपा के साथ काम करना मुश्किल हो सकता है। पीडीपी ने यह भी कहा कि वह विवादित सैन्य बल विशेषाधिकार अधिनियम (अफस्पा) को हटाने के लिए प्रतिबद्ध है जिसे भाजपा संभवत: स्वीकार नहीं करेगी।

हालिया विधानसभा चुनावोें में पीडीपी को सबसे अधिक 28 जबकि भाजपा को 25 सीटें मिली हैं। राज्यपाल एनएन वोहरा के सरकार गठन के प्रस्ताव पर साथ आने के लिए पीडीपी और भाजपा के लिए एक जनवरी की समयसीमा तय करने के बीच, नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस सहित सभी प्रमुख दलों में अनौपचारिक बातचीत तेज हो गई है। पीडीपी ने आधिकारिक रूप से कहा कि सभी विकल्प खुले हैं और अब तक कोई फैसला नहीं हुआ है। लेकिन खबर है कि उसे भाजपा के साथ गठजोड़ को लेकर अपने कई नवनिर्वाचित विधायकों से कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है। पीडीपी के पास अगला विकल्प 12 विधायकों वाली कांग्रेस पार्टी और 15 विधायकों वाली नेशनल कांफ्रेंस का समर्थन स्वीकार करना है। वह इन दोनों दलों के साथ संपर्क में है क्योंकि वह भाजपा से हाथ मिलाने को लेकर दुविधा मे है।

राजनीतिक हलके में अटकल है कि अगर भाजपा का पीडीपी के साथ समझौता नहीं हो पाता है तो भाजपा एक जनवरी तक 30 विधायकों की सूची राज्यपाल को सौंपकर यह दिखा सकती है कि उसके पास पीडीपी से अधिक विधायकों का समर्थन है और ऐसे में राज्यपाल के सरकार गठन के लिए पहले पीडीपी को बुलाने की संभावनाएं कम हो जाएंगी। ऐसी स्थिति में, पीडीपी नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस सहित कम से कम 55 विधायकों का समर्थन पेश कर सकती है।

भाजपा ने शनिवार को कहा कि वह सरकार बनाने की प्रक्रिया में शामिल है। पार्टी महासचिव राम माधव ने नई दिल्ली में कहा-हमें जम्मू कश्मीर में महत्वपूर्ण जनादेश मिला। हम सरकार गठन (प्रक्रिया) में शामिल होंगे। बातचीत चल रही है। देखते हैं कि क्या होता है। हम किसी तरह से एक स्थिर सरकार के गठन का रास्ता खोजना चाहते हैं। चीजें बहुत शुरुआती चरण में हैं और किसी शर्त पर चर्चा नहीं हो रही है। सर्वश्रेष्ठ गठजोड़ राज्य में स्थिर सरकार का होना होगा। हम यह खोजने का प्रयास करेंगे कि सर्वश्रेष्ठ गठजोड़ क्या होगा। हिचकिचाहट, अगर है, तो दोनों तरफ है। भाजपा को राज्य में बहुत महत्वपूर्ण जनादेश मिला है और उसने सर्वाधिक वोट और सर्वाधिक सीटें हासिल की हैं।

माधव ने कहा-स्वाभाविक रूप से जनादेश के आधार पर, हम पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस जैसे जनादेश पाने वाले लोगों की मदद के साथ राज्य को सुशासन देने की कोशिश कर रहे हैं। यह एक ऐसी स्थिति है जहां सरकार अन्य दलों के समर्थन के बगैर नहीं बन सकती।

इस बीच, नेशनल कांफ्रेंस प्रमुख और निवर्तमान मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला अपने माता-पिता से मिलने के लिए शनिवार दोपहर लंदन रवाना हुए। उनके माता-पिता की वहां सर्जरी हुई है। उमर के अब नववर्ष के बाद ही लौटने की उम्मीद है।

भाजपा के खिलाफ हों एकजुट : माकपा

जम्मू कश्मीर के माकपा के नवनिर्वाचित विधायक एमवाई तारिगामी ने कहा कि नेशनल कान्फ्रेंस, कांग्रेस और निर्दलीय विधायकों को भाजपा के राज्य में सरकार बनाने के किसी भी कदम का मिलकर विरोध करना चाहिए। तारिगामी ने कहा-हमारी आशंकाएं वास्तविक हैं क्योंकि संघ का इतिहास है। आज की भाजपा, भाजपा नहीं है, यह पुरानी भाजपा से अलग और शुद्ध व स्पष्ट रूप से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ है। मेरी यहां राजनीतिक नेतृत्व से अपील है कि पीडीपी, नेशनल कान्फ्रेंस और कांग्रेस से, जिनके पास अच्छा संख्या बल है, कि कृपया गंभीर प्रभावों को समझें।
सर्वश्रेष्ठ गठजोड़ की तलाश : राम माधव

हम किसी तरह से एक स्थिर सरकार के गठन का रास्ता खोजना चाहते हैं। चीजें बहुत शुरुआती चरण में हैं और किसी शर्त पर चर्चा नहीं हो रही है। सर्वश्रेष्ठ गठजोड़ राज्य में स्थिर सरकार का होना होगा। हम यह खोजने का प्रयास करेंगे कि सर्वश्रेष्ठ गठजोड़ क्या होगा। हिचकिचाहट अगर है, तो दोनों तरफ है। स्वाभाविक रूप से जनादेश के आधार पर हम पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस जैसे जनादेश पाने वाले लोगों की मदद के साथ राज्य को सुशासन देने की कोशिश कर रहे हैं। यह एक ऐसी स्थिति है जहां सरकार अन्य दलों के समर्थन के बगैर नहीं बन सकती।

Next Story
योगी आदित्यनाथ और भाजपा प्रत्याशी समेत अनेक लोगों पर मुकदमा
अपडेट