ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान की फिर नापाक हरकत, JK के पुंछ में गांवों के पास की फायरिंग, दो मरे; 8 जख्मी

पाक द्वारा शाहपुर और करणी में की गई गोलवारी से दो लोगों की मौत हो गई वहीं 7 घायल हो गए हैं। भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया और क्षेत्र में गोलाबारी अब भी जारी है।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: December 3, 2019 8:38 PM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (file photo)

पाकिस्तानी सेना ने संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए मंगलवर को पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास स्थित अग्रिम चौकियों और गांवों में फ़ायरिंग और गोलाबारी की। पाक द्वारा शाहपुर और करणी में की गई गोलवारी से दो लोगों की मौत हो गई वहीं 8 घायल हो गए हैं। भारतीय सेना ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया और क्षेत्र में गोलाबारी अब भी जारी है।

एक रक्षा प्रवक्ता ने बताया कि शाहपुर और किरनी सेक्टरों में सीमा पार से गोलीबारी और गोलाबारी का भारतीय सेना ने करारा जवाब दिया। प्रवक्ता ने बताया, ‘‘दोपहर बाद करीब 2.30 बजे, पाकिस्तान ने दो सेक्टरों में बिना किसी उकसावे के छोटे हथियारों से गोलीबारी करके और मोर्टार से गोले दागकर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया।’’

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शाहपुर सेक्टर में पाकिस्तानी गोलीबारी और गोलाबारी में 35 वर्षीय एक महिला गुलनाज अख्तर और 16 वर्षीय एक किशोर शोएब अहमद की मौत हो गई। गोलाबारी में दो महिलाओं समेत नौ अन्य घायल हो गये। अधिकारी ने बताया कि क्षेत्र में गोलाबारी जारी है। उन्होंने बताया कि घायलों को अस्पताल ले जाया गया है और इनमें से कुछ की हालत ‘‘गंभीर’’ बनी हुई है।

उन्होंने बताया कि कई मकान भी क्षतिग्रस्त हो गये लेकिन विस्तृत विवरण की प्रतीक्षा है। इन मौतों के साथ ही एलओसी और अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) के पास पाकिस्तानी गोलाबारी और गोलीबारी में मरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 32 हो गई है।

वहीं पुलिस के एक अधिकारी ने जानकारी दी है कि राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में सीमा पार से घुसपैठ करने वाले पीओके के एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों के मुताबिक इस साल पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर संघर्ष विराम का 2,000 से अधिक बार उल्लंघन किया है।

बता दें लोकसभा में मंगलवार को केंद्रीय गृह मंत्रालय ने कई मामलों पर जवाब दिया। जिसमें नाबालिग लड़कियों और महिलाओं को मानव तस्करों द्वारा खाड़ी देश भेजने, कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाने के बाद हुए घुसपैठ और हमले के मामले और जम्मू-कश्मीर में हुई गैर-कश्मीरी नागरिकों की हत्या शामिल है।

अनुच्छेद 370 हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर में हुए हमले और घुसपैठ के मामलों पर मंत्रालय ने कहा, ‘पांच अगस्त के बाद आतंकवादी हिंसा की घटनाओं में कमी आई है। पांच अगस्त 2019 से 27 नवंबर 2019 के बीच 88 ऐसी घटनाएं हुई हैं। वहीं 12 अप्रैल 2019 से 4 अगस्त 2019 में इन घटनाओं की संख्या 106 थी। सीमा पार से घुसपैठ की कोशिशों की संख्या में वृद्धि हुई है। पांच अगस्त 2019 से 31 अक्तूबर 2019 के बीच 84 बार इस तरह की कोशिश की गई है। वहीं यह संख्या नौ मई 2019 से चार अगस्त 2019 के बीच 53 थी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जेल में बंद लालू ही चलाएंगे राजद, किसी को नहीं मिला अध्‍यक्ष पद, 11वीं बार हुए निर्विरोध निर्वाचित
2 संसद में बोले अमित शाह- सुरक्षा नहीं बनाई जा सकती स्टेटस सिंबल, गांधी परिवार को ध्यान में रख नहीं लाए SPG बिल
3 कांग्रेस कार्यकर्ता हैंं अपने बच्‍चों को लेकर प्र‍ियंका के घर घुसने वाली मह‍िला, कहा- बड़ा अन्‍याय हो रहा है
जस्‍ट नाउ
X