ताज़ा खबर
 

J&K: पूर्व CM उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती पर लगा PSA, बगैर ट्रायल 3 माह तक रखे जा सकते हैं जेल में

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मंत्री अली मोहम्मद सागर, नेशनल कॉन्फ्रेंस के पूर्व विधायक बशीर अहमद वीरी और पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के मामा सरताज मदनी पर भी पीएसए लगाया गया है।

उमर अब्दुल्लाह और महबूबा मुफ्ती पर फिर से पीएसए लगा दिया गया है।

जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला (National Conference नेता) और महबूबा मुफ्ती (Peoples Democratic Party अध्यक्ष) पर Public Safety Act (PSA) लग गया है। गुरुवार को इस ऐक्शन के बाद इन दोनों नेताओं को बगैर ट्रायल करीब तीन महीने तक जेल में रखा जा सकता है।

इसी बीच, इन दोनों के अलावा J&K के तीन और नेताओं के खिलाफ भी कड़े पीएसए के तहत मामला दर्ज किया गया है। समाचार एजेंसी ‘PTI’ की रिपोर्ट में अधिकारियों के हवाले से कहा गया कि तीन नेताओं में NC नेता और पूर्व मंत्री अली मोहम्मद सागर, पूर्व विधायक बशीर अहमद वीरी और पूर्व मुख्यमंत्री और PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती के मामा सरताज मदनी हैं।

सूत्रों के हवाले से कुछ टीवी रिपोर्ट्स में बताया गया कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली NDA सरकार के आदेश पर जिन अलगाववादी नेताओं को 5 अगस्त, 2019 को या उसके आसपास हिरासत में लिया गया था, उन सभी की छह महीने की मियाद गुरुवार को पूरी हुई। और, आगे केंद्र के पास इनकी हिरासत बढ़ाने पर कम ही विकल्प थे। संभव है कि इसी वजह से इन पर पीएसए लगाया गया हो।

बताया जा रहा है कि सरकार पूर्व आईएएस अधिकारी व नेता शाह फैसल की नजरबंदी बढ़ाएगी। उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और शाह फैसल को (सीआरपीसी) की धारा 107 के तहत हिरासत में लिया गया है।

सूत्रों ने आगे यह भी बताया कि हिरासत में लिए गए कुछ और नेताओं को राजनीतिक गतिविधि में शामिल न होने से जुड़े बॉन्ड पर दस्तखत के बाद रिहा कर दिया गया था, जबकि कम से कम 10 नेता फिलहाल हिरासत में या नजरबंद कर के रखे गए हैं। इनमें उमर के पिता और पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला भी हैं।

क्या है पीएसए:  जम्मू और कश्मीर में यह कानून साल 1978 में बना था। इसके तहत किसी को भी दो साल तक बिना मुकदमा चलाए हिरासत में लिया जा सकता है। इस प्रावधान का इस्तेमाल करते हुए फारूक अब्दुल्ला को हिरासत में लिया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Delhi Elections: बोले अरविंद केजरीवाल- बहस की चुनौती दी थी, सच्चा हिंदू मैदान नहीं छोड़ता है, पर अमित शाह भाग रहे हैं
2 ‘अच्छा नाच लेते हैं मनोज तिवारी’, बोले CM केजरीवाल, बताई दिल्ली BJP चीफ को पसंद करने की वजह
3 VIDEO: मंदिर जा रहे मंत्री ने आदिवासी लड़के को बुला उतरवाई अपनी चप्पलें, विवाद पर बोले- वह तो मेरे पोते जैसा था