ताज़ा खबर
 

VIDEO: जब महिला SSP ने दी आतंकी को वॉर्निंग- ओसामा, तुम्हारा टाइम खत्म हो चुका है

अधिकारियों ने बताया कि बार-बार आतंकवादियों को समर्पण के लिए प्रेरित करने के बावजूद उन्होंने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाते हुए भागने का प्रयास किया। उसके बाद हुई मुठभेड़ में वे सभी मारे गए।

रामबन एसएसपी ने आतंकी को सरेंडर करने के लिए 15 मिनट का समय दिया था। (फोटोः एएनआई)

भाजपा के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के एक पदाधिकारी की हत्या के मामले में वांछित हिज्बुल मुजाहिदीन के एक शीर्ष ‘कमांडर’ को सुरक्षा बलों ने रामबन जिले में हुई मुठभेड़ में मार गिराया। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले में नौ घंटे चली मुठभेड़ में कुल तीन आतंकवादी मारे गए जबकि सेना का एक जवान शहीद हो गया।

इससे पहले रामबन की एसएसपी अनिता शर्मा ने आतंकी ओसामा को सरेंडर करने का समय दिया। आतंकी के सरेंडर नहीं करने पर एसएसपी ने कहा, ‘ओसामा, तुम्हारा टाइम खत्म हो चुका है… बाहर आ जाओ। तुम्हें बाहर आने के लिए 15 मिनट दिए गए थे वो अब पूरे हो चुके हैं।’

आतंकवादियों की पहचान ओसामा और उसके सहयोगियों जाहिद और फारुक के तौर पर हुई है। अधिकारियों ने बताया कि तीनों शनिवार की सुबह राजमार्ग के पास हुई मुठभेड़ के बाद सुरक्षा बलों से भागते हुए मुख्य बाजार स्थित एक मकान में घुस गए थे। वहीं तीनों को मार गिराया गया। उ

न्होंने बताया कि मुठभेड़ समाप्त होने के बाद मकान मालिक को भी सुरक्षित बचा लिया गया। अधिकारियों ने बताया कि बार-बार आतंकवादियों को समर्पण के लिए प्रेरित करने के बावजूद उन्होंने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलाते हुए भागने का प्रयास किया। उसके बाद हुई मुठभेड़ में वे सभी मारे गए। जम्मू स्थित रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने कहा, ‘‘मुठभेड़ में सभी तीन आतंकवादी मारे गए, जबकि सेना का एक जवान शहिद हो गया।’’

अधिकारी ने बताया कि बेहद खराब मौसम के बावजूद गहन तलाशी अभियान के बाद मकान में छुपे आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच दोपहर एक बजे फिर से गोलीबारी शुरू हो गई। उन्होंने बताया कि मकान मालिक विजय कुमार अंदर फंसे हुए थे। उनके परिवार के अन्य सदस्य बाहर आ गए थे और उन्हें सुरक्षित रखा गया है।


1 नवंबर, 2018 को भाजपा के वरिष्ठ नेता अनिल परिहार और उनके भाई अजीत परिहार तथा नौ अप्रैल, 2019 को आरएसएस पदाधिकारी चन्द्रकांत शर्मा और उनके पीएसओ की हत्या करने जैसे कई संवेदनशील हमलों के पीछे ओसामा का ही हाथ रहा है। ओसामा पर कई लाख रुपये का इनाम था। वह किश्तवाड़ जिले में हथियार छीनने के तीन मामलों में भी वांछित था।

Next Stories
1 J&K: इमरान खान की स्पीच के बाद घाटी में मना जश्न, फोड़े गए पटाखे, लगे आजादी के नारे!
2 महाराष्ट्र चुनाव से किए गए दूर, मोटर कानूनों पर बीजेपी शासित राज्यों की झिड़की! गडकरी को ‘मैसेज’ दे रही मोदी सरकार!
3 गुजरात सरकार के मेहमान बने फाइनेंस कमीशन चेयरपर्सन ने मांगा नॉन वेज खाना, भड़क गए डिप्टी सीएम, यूं निकला रास्ता
ये पढ़ा क्या?
X