ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर और झारखंड में शांति से निपटा अंतिम चरण का प्रचार, मतदान कल

जम्मू कश्मीर और झारखंड में पांचवें और अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार गुरुवार शाम खत्म हो गया। इन दोनों राज्यों में 20 दिसंबर को वोट पड़ेंगे। जम्मू जिले के अरनिया सीमावर्ती इलाके में 27 नवंबर को हुए आतंकवादी हमले से चुनाव प्रचार अप्रभावित रहा जिसमें पांच नागरिक, तीन सुरक्षाकर्मी और चार आतंकवादी मारे गए […]

Author December 19, 2014 1:26 PM
राज्यपाल एनएन वोहरा ने उमर अब्दुल्ला की ओर से उन्हें कार्यवाहक मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी से मुक्त करने के लिए कहे जाने के बाद उत्पन्न राजनीतिक गतिरोध पर केंद्र को रिपोर्ट भेजी। (फोटो: जनसत्ता)

जम्मू कश्मीर और झारखंड में पांचवें और अंतिम चरण के लिए चुनाव प्रचार गुरुवार शाम खत्म हो गया। इन दोनों राज्यों में 20 दिसंबर को वोट पड़ेंगे।

जम्मू जिले के अरनिया सीमावर्ती इलाके में 27 नवंबर को हुए आतंकवादी हमले से चुनाव प्रचार अप्रभावित रहा जिसमें पांच नागरिक, तीन सुरक्षाकर्मी और चार आतंकवादी मारे गए थे।

उपमुख्यमंत्री ताराचंद, मंत्री श्यामलाल शर्मा, रमन भल्ला, मनोहर लाल शर्मा, अजय साधोत्रा, पूर्व सांसद और मंत्री लाल सिंह, तालिब हुसैन (दोनों भाजपा), जितेंद्र बाबू सिंह और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष हैदर मलिक चुनाव लड़ रहे हैं। जम्मू, राजौरी और कठुआ जिले की 20 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होना है।

चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा कि 12 उम्मीदवारों ने अपने नाम वापस ले लिए हैं जिससे चुनाव मैदान में 213 उम्मीदवार रह गए हैं। कश्मीर घाटी में पहले के चरणों में हुए भारी मतदान को देखते हुए जम्मू में भी भारी मतदान की उम्मीद है।

जम्मू कश्मीर के मुख्य निर्वाचन अधिकारी उमंग नरुला ने बताया कि गुरुवार शाम चार बजे चुनाव प्रचार खत्म हो गया। यह शांतिपूर्ण प्रचार रहा और हमें भारी मतदान की उम्मीद है।

तीन सीमावर्ती जिलों में 18 लाख 28 हजार 904 मतदाता वोट डालने के लिए योग्य हैं जिसमें नौ लाख 59 हजार 11 पुरुष और आठ लाख 69 हजार 891 महिलाएं हैं। तीनों जिलों में 2366 मतदान केंद्र बनाए गए हैं।

इस चरण में भाजपा को काफी उम्मीदें हैं क्योंकि 2008 के विधानसभा चुनावों में इसने सबसे ज्यादा 10 सीटों पर जीत दर्ज की थी जिसके बाद कांग्रेस ने पांच सीट, नेशनल कांफ्रेंस ने दो, पीडीपी ने एक और दो सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने चुनाव जीता था।

जम्मू क्षेत्र के तीन सीमावर्ती जिलों में सुरक्षा के प्रबंध कड़े किए गए हैं और शनिवार को होने वाले चुनाव के लिए करीब 30 हजार सुरक्षाकर्मियों की तैनाती की गई है, जबकि अधिकारियों ने क्षेत्र में 1781 मतदान केंद्र बनाए हैं।

सभी दलों के वरिष्ठ नेताओं ने अपने उम्मीदवारों के लिए प्रचार किया। भाजपा के लगभग सभी शीर्ष नेताओं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, अरुण जेटली, सुषमा स्वराज, स्मृति ईरानी, उमा भारती, जेपी नड्डा, जितेंद्र सिंह और विनोद खन्ना, हेमामालिनी, नवजोत सिंह सिद्धू ने चुनाव प्रचार किया।

मोदी ने रजौरी, जम्मू, बिल्लावर और कठुआ विधानसभा क्षेत्र में चार रैलियों को संबोधित किया और लोगों से भाजपा को बहुमत देने की अपील की, ताकि विकास सुनिश्चित किया जा सके और नेकां, पीडीपी एवं कांग्रेस की वंशवादी राजनीति को खत्म किया जा सके।

चुनाव प्रचार करने वालों में अन्य दलों से नेशनल कांफ्रेंस के मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, पीडीपी के मुफ्ती मोहम्मद सईद और महबूबा मुफ्ती शामिल हैं।

उपमुख्यमंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार ताराचंद ने जम्मू के छंब सीट से 1996, 2002 और 2008 में चुनाव जीते थे और इस बार उन्हें यह सीट बरकरार रखने के लिए कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

इसके अलावा अखनूर से कांग्रेस उम्मीदवार और मंत्री शाम लाल शर्मा को भी तीसरी बार जीत दर्ज करने में कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।
नेशनल कांफ्रेंस के वर्तमान मंत्री अजय सिधोत्रा को माढ विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार की तरफ से कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।
नगरोटा से नेकां उम्मीदवार देवेंदर सिंह राणा अपने पहले चुनाव में कड़े मुकाबले का सामना कर रहे हैं। राणा उमर अब्दुल्ला के नजदीकी माने जाते हैं।
दो बार के सांसद और पूर्व मंत्री लाल सिंह भाजपा के टिकट पर बाशोली से चुनाव लड़ रहे हैं। इसी तरह नेशनल कांफ्रेंस से पूर्व सांसद रहे तालिब हुसैन भाजपा के टिकट पर राजौरी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में हैं।

उधर, झारखंड की बाकी बची 16 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव प्रचार गुरुवार को खत्म हो गया। इन सीटों पर 20 तारीख को वोट पड़ेंगे। इस चरण में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का भाग्य दुमका और बरहेट विधानसभा सीटों पर दांव पर लगा है।

झारखंड के मुख्य निर्वाचन अधिकारी पीके जाजोरिया ने बताया कि दोपहर तीन बजे राज्य विधानसभा चुनावों के पांचवें और अंतिम चरण की 16 सीटों के लिए चुनाव प्रचार शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया। इन सभी सीटों पर 20 दिसंबर को सुबह सात बजे से दोपहर तीन बजे तक मतदान होगा। उन्होंने बताया कि नक्सल प्रभावित जिलों में स्थित होने के कारण इन सभी सोलह विधानसभा सीटों के लिए चुनाव प्रचार दोपहर तीन बजे ही समाप्त कर दिया गया।

राज्य में अंतिम चरण के चुनाव प्रचार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुमका और साहिबगंज में विशाल जनसभाएं कीं और लोगों से स्थिर सरकार के लिए भाजपा के लिए मतदान करने की अपील की। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी महगामा और शिकारीपाड़ा सहित कई स्थानों पर जनसभाएं कीं, जिसमें उन्होंने भाजपा और विशेषकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आदिवासी और गरीब विरोधी होने का आरोप लगाया और कहा कि केंद्र सरकार गरीबों और आदिवासियों के लिए बने कानूनों में फेरबदल कर उन्हें पूंजीपतियों के हित में ढालने में लगी है।

अंतिम चरण में सोलह महिला उम्मीदवारों समेत कुल 208 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। कुल 3690069 मतदाताओं में अंतिम चरण में 1784486 महिला मतदाता भी शामिल हैं। कुल दो लाख 31 हजार से अधिक मतदाता सिर्फ 18 और 19 वर्ष के हैं।

अंतिम चरण में नाला विधानसभा क्षेत्र से सर्वाधिक 19 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं और लिट्टीपाड़ा क्षेत्र से सबसे कम आठ उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

राज्यसभा ‘नोट के बदले वोट’ मामले में जेल की हवा खा चुकीं हेमंत सोरेन की भाभी सीता सोरेन जामा सीट से फिर चुनाव लड़ रही हैं। सारठ सीट से झामुमो नेता शशांक शेखर भोक्ता भी एक बार फिर अपना भाग्य आजमा रहे हैं।

दुमका सीट पर भाजपा की तेज तर्रार आदिवासी नेता लुई मरांडी जहां मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को टक्कर दे रही हैं, वहीं बरहेट सीट पर झामुमो के ही पूर्व कद्दावर नेता हेमलाल मुर्मू भाजपा के टिकट पर हेमंत सोरेन को पटखनी देने पर तुले हुए हैं। उन्होंने लोकसभा चुनावों में भी झामुमो के नेता विजय हंसदा से दो-दो हाथ किए थे और मामूली अंतर से उनसे चुनाव हार गए थे। इस चरण में झामुमो ने सभी 16 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं जबकि भाजपा ने 15 सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारे हैं और एक सीट रामविलास पासवान की लोजपा के लिए छोड़ दी है।

झारखंड में इस चरण के साथ ही सभी 81 विधानसभा सीटों के लिए मतदान संपन्न हो जाएगा और मतों की गिनती 23 दिसंबर को जम्मू कश्मीर के साथ होगी। मतदान का पहला चरण 25 नवंबर, दूसरा चरण दो दिसंबर, तीसरा चरण नौ दिसंबर एवं चौथा 14 दिसंबर को संपन्न हुआ था।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App