ताज़ा खबर
 

20-25 पुलिसकर्मियों ने जबरन उठाकर प्लेन में धकेल दिया, श्रीनगर से वापस भेजे गए पूर्व केंद्रीय मंत्री ने सुनाई आपबीती

सिन्हा दो बार देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं। एक बार अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में, जबकि उससे पहले चंद्रशेखर के कार्यकाल में। काफी समय तक बीजेपी का हिस्सा रहे, पर 2018 में पार्टी की कार्यशैली और नीतियों को लेकर उन्होंने दल को अलविदा कह दिया था।

Yashwant Sinha, Former Finance Minister, BJP, Bhartiya Janta Party, Police, Plane, Srinagar, Jammu and Kashmir, India News, Breaking News, Latest News, National News, Hindi Newsपूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः पार्था पॉल)

पूर्व वित्त मंत्री और नरेंद्र मोदी सरकार के कटु आलोचक यशवंत सिन्हा हाल ही में जब कश्मीर गए थे, तब श्रीनगर एयरपोर्ट पर उनके साथ पुलिस वालों ने दुर्व्यवहार किया था। झूठ बोलकर उन्हें जबरन व्हील चेयर पर धकेला था और जबरदस्ती फ्लाइट में बैठाकर दिल्ली भेजा था, जबकि उनके साथ वहां पहुंचे तीन साथियों को लाउंज के कमरे में लॉक कर दिया गया था। सिन्हा ने इस घटना के बारे में विस्तार से ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को बताया।

17 सितंबर की घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया, “मैं कनसंर्ड सिटिजंस ग्रुप से जुड़ा हूं, जो कश्मीर में अमन-चैन के लिए कई सालों से काम कर रही है। 17 तारीख को हमारे ग्रुप का कार्यक्रम बना था। 44वें दिन कार्यक्रम था, जाने का। श्रीनगर एयरपोर्ट पहुंचे। मेरे अलावा चार और लोग थे। वहां एक सज्जन मिले, जिन्होंने खुद को बडगाम का डिप्टी कमिश्नर बताया। फिर लाउंज में बैठे तो उन्होंने बाकी को जाने देने के लिए हां कर दी, पर मुझे मना कर दिया।”

“मैंने उनसे लिखित में कारण पूछा, तो दो घंटे बाद मुझे एक आदेश लाकर दिया। उसमें लिखा था कि मेरे वहां जाने से शांति भंग होगी। मैंने इस पर कहा कि मैं तो आपके जिले में भी नहीं रहूंगा…मैं तो श्रीनगर जा रहा हूं। पर वे माने नहीं। काफी हुज्जत हुई इसी पर। ढाई घंटे बाद मुझे एसपी ने लिखित ऑर्डर देते हुए वापस जाने के लिए कहा। मैंने कहा कि आप गलत आदेश दे रहे हैं। मैं भी कानून जानता हूं। काफी बहस होती रही।”

इसी बीच, शाम 5 बजकर 45 पर आखिरी फ्लाइट निकल रही थी। तभी कुछ लोग आए और कहीं साथ ले जाने के लिए कहा। मेरे पैर में चोट लगी थी, तो वे मुझे व्हील चेयर पर मुझे बैठाया। वे मुझे फ्लाइट की ओर ले जाने लगे, तब मैंने उनका विरोध किया। इसी पर 20-25 पुलिस वालों ने मुझे धकेला और जबदस्ती मुझे फ्लाइट में बैठा दिया। मैंने इस पर उनसे कहा कि आप धोखा कर रहे हैं। वहीं, मेरे तीन साथियों को रिजर्व लाउंज में लॉक कर दिया था। मैं इसे काफी गलत मानता हूं।”

सिन्हा ने यह भी कहा कि उन्हें शक था कि उनके ऐसा कुछ हो सकता है, पर यकीन नहीं था। बता दें कि यशवंत सिन्हा दो बार देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं। एक बार अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में, जबकि उससे पहले चंद्रशेखर के कार्यकाल में। काफी समय तक बीजेपी का हिस्सा रहे, पर 2018 में पार्टी की कार्यशैली और नीतियों को लेकर उन्होंने दल को अलविदा कह दिया था। यही वजह है कि बीते कुछ समय से वह मोदी सरकार के कटु आलोचक हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारत को मिली 36 राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप, फ्रांस में डिप्टी चीफ एयर मार्शल ने रिसीव कर घंटेभर भरी उड़ान
2 कश्मीर: 6 नेताओं ने रिहाई के लिए बांड पर किए हस्ताक्षर; सज्जाद लोन, शाह फैजल समेत 30 का इनकार
3 ‘यह हिन्दुस्तान है, कोई धर्मशाला नहीं’, NRC की वकालत में बोले बीजेपी के मुस्लिम प्रवक्ता
ये पढ़ा क्या?
X