ताज़ा खबर
 

J&K: ‘महबूबा, उमर समेत 3 पूर्व CM किए जाएं रिहा’, मांग कर बोला विपक्ष- दबाई जा रही है असहमति की आवाज

विपक्ष ने कहा कि पिछले सात महीनों से तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को बिना किसी पुख्ता आधार के हिरासत में रखा गया है और इन नेताओं का ऐसा कोई अतीत नहीं है जिसके आधार पर यह कहा जा सके कि ये लोग जम्मू कश्मीर में सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा बन सकते हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: March 9, 2020 5:12 PM
विपक्षी नेताओं ने की मेहबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला की रिहाई की मांग

वामदलों सहित विभिन्न दलों के नेताओं ने सोमवार को सरकार से जम्मू कश्मीर के तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित अन्य राजनीतिक बंदियों की तत्काल रिहाई करने की मांग की है। राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार, माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी और भाकपा के महासचिव डी राजा सहित अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने साझा बयान जारी कर जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों फारुक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला सहित अन्य राजनीतिक दलों के उन सभी नेताओं को रिहा करने की मांग की है जिन्हें पिछले साल पांच अगस्त को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के समय हिरासत में लिया गया था।

बयान के अनुसार ‘‘लोकतांत्रिक मूल्यों, मौलिक अधिकारों और नागरिक स्वतंत्रताओं पर लगातार हमले बढ़ रहे हैं। ऐसे में असहमति की आवाज को न सिर्फ दबाया जा रहा है, बल्कि गंभीर मुद्दों को उठाने वालों को योजनाबद्ध तरीके से चुप कराया जा रहा है।’’

विपक्ष ने कहा कि पिछले सात महीनों से तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को बिना किसी पुख्ता आधार के हिरासत में रखा गया है और इन नेताओं का ऐसा कोई अतीत नहीं है जिसके आधार पर यह कहा जा सके कि ये लोग जम्मू कश्मीर में सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा बन सकते हैं। उल्लेखनीय है कि जम्मू कश्मीर में एहतियातन हिरासत में लिए गए नेताओं को रिहा करने की विपक्ष लगातार मांग कर रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Yes Bank Scam में संस्थापक राणा कपूर की पत्नी और बेटी भी आरोपी, CBI ने 7 ठिकानों पर डाले छापे
2 Delhi Violence को लेकर PFI का सदस्य गिरफ्तार, सांप्रदायिक हिंसा भड़काने की साजिश रचने का आरोप
3 इलाहाबाद हाईकोर्ट से योगी सरकार को झटका, हिंसा के आरोपियों से वसूली वाले पोस्टर हटाने को कहा