जम्मू-कश्मीर: पाक की गोलाबारी में तीन की मौत, 17 घायल - Jansatta
ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर: पाक की गोलाबारी में तीन की मौत, 17 घायल

पाकिस्तानी सैनिकों ने एक बार फिर संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए शुक्रवार तड़के से ही जम्मू के सीमावर्ती इलाकों में भारी गोलाबारी की। इसमें तीन नागरिकों की मौत हो गई और 17 अन्य घायल हो गए..

Author जम्मू/इस्लामाबाद | August 29, 2015 8:36 AM
भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर रनवीर सिंह पुरा के साई गांव में पाकिस्तान की ओर से की गई गोलाबारी में मारी गई महिला की बेटी शुक्रवार को विलाप करते हुए। (पीटीआई फोटो)

पाकिस्तानी सैनिकों ने एक बार फिर संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए शुक्रवार तड़के से ही जम्मू के सीमावर्ती इलाकों में भारी गोलाबारी की। इसमें तीन नागरिकों की मौत हो गई और 17 अन्य घायल हो गए। उधर, पाकिस्तान विदेश विभाग ने भारतीय उच्चायुक्त को तलब कर भारत की ओर से की जा रही गोलीबारी को रोकने और संघर्षविराम समझौते का पालन करने को कहा।

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने जम्मू जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के निकट आरएस पुरा और अरनिया सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग का करारा जवाब दिया। बीएसएफ प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी रेंजरों ने अचानक फायरिंग शुरू की। शुरू में छोटे हथियारों से गोलीबारी की लेकिन बाद में बीएसएफ चौकियों और रिहाइशी क्षेत्रों में मोर्टार बम दागे।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि फायरिंग और मोर्टार से गोलाबारी मध्यरात्रि के बाद करीब पौने दो बजे आरएस पुरा सेक्टर के किशनपुर, जोरा फार्म, जुगनू चक, नवापिंड, घारना, सिया, अब्दुल्लियां और चांदू चक इलाकों में शुरू हुई। अरनिया सेक्टर में सुबह साढे चार बजे फायरिंग शुरू हुई। अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से दागे गए गोले अंतरराष्ट्रीय सीमा से काफी दूर गांवों में गिरे। फायरिंग में तीन नागरिकों की मौत हो गई और 17 अन्य घायल हो गए। घायलों में से चार की हालत गंभीर है। उन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया है। आरएस पुरा सेक्टर में दो जबकि अरनिया में एक व्यक्ति की मौत हुई।

जम्मू के उपायुक्त समरनदीप सिंह ने कहा कि बड़ी तादाद में मवेशी भी घायल हुए हैं। गोलाबारी से कुछ इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं। अधिकारियों ने बताया कि सीमा पर तैनात बीएसएफ जवानों ने जवाबी फायरिंग की। उन्होंने बताया कि अंतिम रिपोर्ट मिलने तक बीएसएफ के किसी जवान के हताहत होने की कोई खबर नहीं है।

अगस्त में पाकिस्तान ने संघर्षविराम समझौते का 55 बार उल्लंघन किया जबकि इस वर्ष अब तक 245 बार उसने संघर्षविराम का उल्लंघन किया है। उधर, पाकिस्तान ने शुक्रवार को भारतीय उच्चायुक्त टीसीए राघवन को तलब कर कथित संघर्षविराम उल्लंघन पर विरोध जताया। पाकिस्तानी अधिकारियों के मुताबिक भारत की ओर से की गई गोलाबारी में छह नागरिकों की मौत हुई है।

सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के विदेश सचिव एजाज अहमद चौधरी ने राघवन को बुलाया और उनसे कहा कि भारतीय पक्ष की ओर से शुक्रवार को किया गया संघर्षविराम का उल्लंघन स्वीकार्य नहीं है। चौधरी ने राघवन को विरोध पत्र भी सौंपा। राघवन के साथ उप उच्चायुक्त जेपी सिंह भी थे।

विदेश कार्यालय ने एक बयान जारी कर कहा, ‘नागरिकों को निशाना बनाने के भारत के चलन की निंदा करते हुए पाकिस्तान एलओसी और कामकाजी सीमा पर लगातार बनी हुए विषम स्थिति पर गहरी चिंता प्रकट करता है।’ पाकिस्तान का दावा है कि सियालकोट के पास चारवा और हरपाल क्षेत्र में भारत की ओर से की गई कथित गोलीबारी में छह नागरिक मारे गए और 22 महिलाओं समेत 46 अन्य घायल हो गए।

विदेश कार्यालय ने कहा, ‘शुरू में पाकिस्तानी सैनिकों ने संयम बरता लेकिन जब भारत ने भारी गोलीबारी शुरू कर दी तो मुहंतोड़ जवाब दिया गया। गोलीबारी आज पूर्वाह्न 11 बजे खत्म हुई।’ उसने कहा, ‘भारत सरकार से तत्काल संघर्षविराम का उल्लंघन रोक कर एलओसी और कामकाजी सीमा पर अमन चैन की बहाली के लिए 2003 के संघर्ष विराम समझौते का पालन करने को कहा गया।’

कुछ दिन पहले ही पाकिस्तान ने दोनों देशों के बीच एनएसए स्तर की पहली प्रस्तावित बातचीत को रद्द कर दिया था।
* पाकिस्तानी सैनिकों ने शुक्रवार तड़के शुरू की गोलाबारी, 17 घायल
* पाक ने भारतीय उच्चायुक्त को तलब कर गोलाबारी रोकने को कहा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App