ताज़ा खबर
 

जल्लीकट्टू: विरोध प्रदर्शन के चलते मुख्यमंत्री नहीं कर पाए शुरुआत, फिर भी कई जगह खेल

जल्लीकट्टू: लोग अध्यादेश को नहीं मान रहे। उनका कहना है कि संपूर्ण समाधान निकाला जाना चाहिए।

Author Updated: January 22, 2017 4:48 PM
2010 से 2014 के बीच जल्लीकट्टू खेलते हुए 17 लोगों की जान गई थी और 1,100 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे। (फोटो-पीटीआई)

तमिलनाडु के विभिन्न हिस्सों में रविवार (22 जनवरी) को जल्लीकट्टू का आयोजन किया गया वहीं मदुरै के आलंगनल्लूर में विरोध प्रदर्शन जारी रहे जहां लोगों ने स्थाई समाधान की मांग करते हुए सांड़ को काबू में करने के इस खेल के आयोजन से इनकार कर दिया और इस वजह से मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम को बिना उद्घाटन किये चेन्नई लौटना पड़ा। पनीरसेल्वम ने शनिवार को कहा था कि वह सुबह 10 बजे आलंगनल्लूर में कार्यक्रम का उद्घाटन करेंगे।

चेन्नई के मरीना बीच समेत राज्य के विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शनकारी अब भी डटे हुए हैं। मरीना बीच पिछले छह दिन से प्रदर्शन का केंद्र बना हुआ है। प्रदर्शनकारी इस खेल के आयोजन के लिए स्थाई समाधान और पशु अधिकार संगठन पेटा पर पाबंदी लगाने की मांग करते हुए नारेबाजी कर रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों ने जहां आयोजन के स्थाई समाधान की मांग की और नारे लगाते हुए कहा कि अध्यादेश केवल अस्थाई उपाय है तो पनीरसेल्वम ने कहा, ‘‘राज्य सरकार का जल्लीकट्टू पर अध्यादेश का रास्ता स्थाई, सशक्त और टिकाउच्च् है और इसे आगामी विधानसभा सत्र में कानून बनाया जाएगा।’’ उन्होंने कहा कि अध्यादेश लागू होने के बाद कोई प्रतिबंध नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चेन्नई में शुरू हो रहे विधानसभा सत्र में एक विधेयक लाया जाएगा, जिसके बाद अध्यादेश की जगह कानून ले लेगा।

चेन्नई रवाना होने से पहले मदुरै में संवाददाताओं से बातचीत में पनीरसेल्वम ने कहा, ‘‘जल्लीकट्टू पर प्रतिबंध पूरी तरह से हटा लिया गया है। आलंगनल्लूर में स्थानीय लोगों द्वारा तय तारीख पर खेल का आयोजन किया जाएगा।’’

उन्होंने कहा कि तमिलनाडु के सभी हिस्सों में जल्लीकट्टू का आयोजन किया गया और स्थानीय प्रशासन और पुलिस इसके लिए सभी एहतियातन कदम उठा रहे हैं। यहां और तमुक्कम मैदान में लगातार विरोध प्रदर्शन और बंद जारी रहने से पनीरसेल्वम द्वारा जल्लीकट्टू के उद्घाटन पर प्रश्नचिह्न लग गया था ।

Vishnu Rawal January 22, 20179:36 am

Vishnu Rawal January 22, 20179:38 am

तमिलनाडु में आज जल्लीकट्टू होना है। लेकिन लोग इसके लिए लाए गए अध्यादेश के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि इसको पूरी तरह से लागू करना चाहिए। उनको लगता है कि अध्यादेश इसका समाधान नहीं है।

Vishnu Rawal January 22, 20179:39 am

Vishnu Rawal January 22, 201710:10 am

मदुरैई जिले के अलंगनल्लूर में आज जल्लीकट्टू नहीं हो पाएगा। क्योंकि वहां प्रदर्शन कर रहे लोगों ने जाम लगा रखा है।

Vishnu Rawal January 22, 201710:48 am

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, तमिलनाडु के कुछ राज्यों में जल्लीकट्टू शुरू हो गया है।

Vishnu Rawal January 22, 201711:04 am

Vishnu Rawal January 22, 201711:50 am

Vishnu Rawal January 22, 201711:55 am

इस वक्त की बाकी ताजा खबरों के लिए क्लिक करें

देखिए संबंधित वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आंध्र प्रदेश में बड़ा ट्रेन हादसा, इंजन समेत 8 कोच पटरी से उतरे, 32 लोगों की मौत
2 सिपाही चंदू चव्‍हाण के भाई ने कहा- गांव में खुशी, अब दादी की अस्थियों का विसर्जन होगा
3 पीएम नरेंद्र मोदी के काम से खुश मौलाना आजाद के पोते, बोले- शब्‍द नहीं उनका काम बोल रहा है