ताज़ा खबर
 

100 दिन भेड़ की तरह जीने से बेहतर है 1 दिन शेर की तरह जियो…LAC के पास ITBP का बोर्ड, बोली- हैं खूब चौकन्ने, चीन नहीं चौंका सकता

हाल ही में एक खुफिया अलर्ट जारी हुआ था, जिसमें कहा गया था कि चीनी सैनिक सर्दी खत्म होते ही बर्फ के पिघलने के बाद 20 संवेदनशील इलाकों में घुसपैठ को अंजाम दे सकते हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र लद्दाख | Updated: December 26, 2020 1:28 PM
Arunachal Pradesh, Tawang Sector. ITBPअरुणाचल के तवांग सेक्टर में आईटीबीपी चौकसी से सीमाओं की रक्षा में जुटी है। (फोटो सोर्स- ANI)

भारत और चीन के बीच एलएसी पर पिछले छह महीनों से ज्यादा समय से तनाव जारी है। इसी के मद्देनजर भारतीय सेना भीषण सर्दी में भी तीन अलग-अलग जगहों- पैंगोंग सो, हॉट स्प्रिंग्स और डेपसांग प्लेन्स के पास जमी है। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश में चीन की किसी तरह की कारस्तानी को रोकने के लिए आईटीबीपी ने मोर्चा संभाल लिया है। यहां के संवदेनशील तवांग इलाके में आईटीबीपी के जवान मजबूती से जमे हैं। आईटीबीपी का साफ कहना है कि चीनी इस सेक्टर में अब भारत को चौंका नहीं पाएंगे।

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, आईटीबीपी ने इस जगह पर हालिया समय में इन्फ्रास्ट्रक्चर भी तैयार कर लिया है, जिससे कम समय में भी जवानों को तैनात करना आसान होगा। आईटीबीपी की 55वीं बटालियन के कमांडर आईबी झा ने बताया कि जब भी चीनी सेना की तरफ से लद्दाख में किसी तरह की घुसपैठ की घटना होती है, तो हमें भी यहां हाई अलर्ट मोड में रहना पड़ता है, ताकि सामने कोई भी स्थिति अचानक से न आ जाए।

तवांग में ही आईटीबीपी के फॉरवर्ड पोस्ट पर एलएसी के पास एक साइनबोर्ड भी लगा है। इसमें लिखा है, “एक भेड़ की तरह 100 साल जीने से अच्छा है, एक शेर की तरह सिर्फ एक दिन जीना।” कमांडेंट झा ने बताया कि भीषण सर्दी के बावजूद हमारे जवान लगातार हाई अलर्ट पर रहते हैं और हर वक्त सीमा पर नजर रख रहे हैं।

अधिकारी ने कहा कि इस सेक्टर में कोई भी हमें चौंका नहीं सकता। हमने देश को सुरक्षित करने का वादा किया है और हम स्तर पर तैयारी के साथ अपनी ड्यूटी कर रहे हैं। कमांडेंट झा ने बताया कि भारत की तरफ से बीते कुछ सालों में इस तरफ अच्छा निर्माण कार्य हुआ है। इसके चलते हम भी अब चीन की सीमा के आखिरी पॉइंट तक जा सकते हैं। बताया गया है कि तवांग सेक्टर के आसपास के संवेदनशील इलाके को देखते हुए भारतीय सेना की एक पूरी टुकड़ी यहां और आसपास के इलाकों में तैनात है।

20 लोकेशन के लिए जारी हुए हैं चीनी घुसपैठ के खुफिया अलर्ट: गौरतलब है कि हाल ही में एक खुफिया अलर्ट जारी हुआ था, जिसमें कहा गया था कि चीनी सैनिक सर्दी खत्म होते ही बर्फ के पिघलने के बाद 20 संवेदनशील इलाकों में घुसपैठ को अंजाम दे सकते हैं। बताया गया है कि ये इलाके लद्दाख से लेकर अरुणाचल प्रदेश में हैं। इंटेलिजेंस ब्यूरो से जुड़े एक अधिकारी ने बताया था कि जैसे-जैसे चीन से लगी भारत की लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पाकिस्तानी सीमा LoC जैसी बनती जा रही है, वैसे ही सेना और आईटीबीपी अपनी तैयारियों को मजबूत कर रहे हैं। बताया गया है कि चीन की घुसपैठ की कोशिशों की खुफिया जानकारी मिलने केबाद इन 20 संवेदनशील जगहों पर जरूरत के इंतजाम कर दिए गए हैं।

Next Stories
1 UP में ‘गाय बचाओ’ यात्रा निकालने पर अड़े कांग्रेसी, तो प्रदेश अध्यक्ष समेत 150 से अधिक कार्यकर्ता अरेस्ट
2 किसानों के सवाल बड़े हैं या 2000 रुपए का सम्मान? ‘सम्मान निधि’ ट्रांसफर पर रवीश कुमार ने उठाया सवाल, पोस्ट वायरल
3 कोरोनाः 4 सूबों में वैक्सीन पर ‘मॉक ड्रिल’, डिलिवरी, कोल्ड चेन से लेकर साइड इफेक्ट्स पर रहेगा ध्यान, जानें क्या है तैयारी
ये पढ़ा क्या?
X