ताज़ा खबर
 

इशरत जांच ए‍नकाउंटर की जानकारी के लिए लगाई RTI, गृह मंत्रालय ने कहा- पहले साबित करो भारतीय हो

सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत केवल भारतीय नागरिक ही सूचना मांग सकता है। असामान्य मामलों में एक जन सम्पर्क अधिकारी नागरिकता का सबूत मांग सकता है।

नई दिल्‍ली | Updated: June 15, 2016 4:47 PM
पारदर्शिता कानून के तहत आमतौर पर आवेदन करने के लिए नागरिकता के सबूत की जरूरत नहीं पड़ती है। (इशरत जहां, फाइल फोटो)

एक असमान्य घटना में गृह मंत्रालय ने इशरत जहां कथित फर्जी मुठभेड़ मामले से जुड़ी गुमशुदा फाइल से संबंधित मामले को देखने वाली एक सदस्यीय समिति का ब्यौरा जाहिर करने से पहले एक आरटीआई याचिकाकर्ता से यह साबित करने को कहा है कि वह भारतीय है। वरिष्ठ आईएएस अधिकारी, गृह मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव बी के प्रसाद जांच समिति की अध्यक्षता कर रहे हैं।

मंत्रालय में दायर आरटीआई याचिका में समिति की ओर से पेश रिपोर्ट की प्रति के अलावा प्रसाद को दिये गए सेवा विस्तार से जुड़ी फाइल नोटिंग का ब्यौरा मांगा गया था।

READ ALSO: RTI में खुलासा- देश में कोई खेल ‘राष्ट्रीय खेल’ नहीं, दिग्गजों की मांग- हॉकी को मिले ये दर्जा

गृह मंत्रालय ने अपने जवाब में कहा, ‘‘इस संबंध में यह आग्रह किया जाता है कि आप कृपया अपनी भारतीय नागरिकता का सबूत प्रदान करें ।’’ सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत केवल भारतीय नागरिक ही सूचना मांग सकता है।

इस पारदर्शिता कानून के तहत आमतौर पर आवेदन करने के लिए नागरिकता के सबूत की जरूरत नहीं पड़ती है। असामान्य मामलों में एक जन सम्पर्क अधिकारी नागरिकता का सबूत मांग सकता है अगर उसे आवेदन करने वाले की नागरिकता को लेकर कोई संदेह हो ।

Next Stories
1 सिविल एविएशन पॉलिसी को मिली मंजूरी, अध‍िकतम 2500 रुपए में एक घंटे का हवाई सफर होगा मुमकिन
2 Jet airways की यात्रियों के लिए 1000 रुपए वाली जेट एडवांस सुविधा, जानें क्या है खास?
3 जेट एयरवेज की फ्लाइट में उड़ान भरने के बाद उठा धुआं, बंगलुरु एयरपोर्ट पर हुई इमरजेंसी लैंडिंग
ये पढ़ा क्या?
X