इशरत जहां एनकाउंटर: गायब पेपर्स की जांच करने वाले अफसर ने गवाह को दी थी पूछताछ की ट्रेनिंग, रटाए थे सवालों के जवाब - Jansatta
ताज़ा खबर
 

इशरत जहां एनकाउंटर: गायब पेपर्स की जांच करने वाले अफसर ने गवाह को दी थी पूछताछ की ट्रेनिंग, रटाए थे सवालों के जवाब

1983 बैच के तमिलनाडु कैडर के आईएएस अधिकारी प्रसाद 31 मई को रिटायर होने वाले थे, मगर उन्‍हें दो महीने का सेवा-विस्‍तार दिया गया है।

Author नई दिल्‍ली | June 16, 2016 10:49 AM
इशरत जहां व तीन अन्‍य की 15 जून, 2004 को हत्‍या कर दी गई थी।

इशरत जहां एनकाउंटर केस में ‘गायब कागजातों’ की जांच का नेतृत्‍व करने वाले केन्‍द्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारी बी.के. प्रसाद ने ना सिर्फ एक गवाह को पूछे जाने वाले सवाल बताए, बल्कि यह भी बताया कि उसे जवाब क्‍या देना है- कि उसने कोई कागजात नहीं देखे। जांच का नेतृत्‍व कर रहे अधिकारी की यह कोचिंग लोकसभा में 10 मार्च को केन्‍द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह द्वारा घोषित की गई जांच पर सवाल खड़े करती है।

READ ALSO: यहां पढ़ें, दोनों अधिकारियों के बीच फोन पर क्‍या बात हुई

जांच का मकसद यू‍पीए सरकार के दूसरे एफिडेविट- जिसमें इशरत के लश्‍कर से कथित लिंक और 15 जून, 2015 को उसकी हत्‍या की जांच की सीबीआई से जांच की इजाजत दी गई थी, की परिस्थितियों का पता लगाना था। प्रसाद ने अपनी रिपोर्ट गुरुवार को सौंप दी जिसमें गायब कागजात पर कोई निष्‍कर्ष नहीं निकला है।

READ ALSO: बी.के. प्रसाद और अशोक कुमार के बीच हुई बातचीत की ऑडियो रिकॉर्डिंग यहां सुनें

Ishrat Jahan case, Ishrat Jahan SIT, Ishrat Jahan IPS Officer, Ishrat Jahan IPS Satish Verma गुजरात में कथित फर्जी मुठभेड़ में 2004 में इशरत जहां मारी गई थी। (फाइल फोटो)

25 अप्रैल को दोपहर करीब 3.45 बजे द इंडियन एक्‍सप्रेस ने वर्तमान में एडिशनल सेक्रेट्री (विदेशी) प्रसाद को फोन किया था। उनसे पूछा गया था कि सरकार ने चीनी मूल के डोलकुल इसा को वीजा देने से क्‍यों मना कर दिया। बातचीत को स्‍पष्‍ट रूप से लिखने के लिए यह कॉल रिकॉर्ड की गई थी। बातचीत के दौरान, प्रसाद ने द इंडियन एक्‍सप्रेस का फोन होल्‍ड पर रखा और दूसरे फोन पर इशरत जहां एनकाउंटर केस के गायब डॉक्‍युमेंट्स की जांच पर बात कर रहे थे। यह बातचीत भी द इंडियन एक्‍सप्रेस ने रिकॉर्ड की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App