ताज़ा खबर
 

इशरत जहां मामले में फाइल लापता होने का मामला दर्ज

सितंबर 2009 में दस्तावेजों को जानबूझ कर या अनजाने में हटा दिया गया या वे गायब हो गए।

Author नई दिल्ली | September 26, 2016 1:31 AM
गुजरात में कथित फर्जी मुठभेड़ में 2004 में इशरत जहां मारी गई थी। (फाइल फोटो)

गृह मंत्रालय ने विवादास्पद इशरत जहां ‘फर्जी मुठभेड़’ मामले से जुड़े लापता दस्तावेजों के सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज करवाई है। इस कदम से भाजपा और कांगे्रस के बीच राजनीतिक वाकयुद्ध तेज हो सकता है।  गृह मंत्रालय के अवर सचिव ने संसद मार्ग पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 409 (लोक सेवक द्वारा विश्वास का आपराधिक हनन) के तहत प्राथमिकी दर्ज करवाई है। इस में पुलिस से इस बात की जांच करने को कहा गया है कि क्यों, कैसे और किन परिस्थितियों में मामले से संबंधित पांच दस्तावेज गायब हो गए।
इस कदम से पहले अतिरिक्त सचिव की अध्यक्षता वाली जांच समिति ने अपना निष्कर्ष दिया था कि सितंबर 2009 में दस्तावेजों को जानबूझ कर या अनजाने में हटा दिया गया या वे गायब हो गए।

उस अवधि में पी चिदंबरम गृह मंत्री थे। जांच समिति ने कहा कि इन पांच में से केवल एक दस्तावेज ही मिल पाया है। समिति ने अपनी तीन माह चली जांच के बाद 15 जून को रिपोर्ट सौंपी थी। हालांकि जांच समिति ने चिदंबरम या तत्कालीन यूपीए सरकार में किसी भी व्यक्ति के बारे में कुछ नहीं कहा है।  दिल्ली पुलिस आयुक्त की ओर से 26 अगस्त को भेजे गए संदेश के बाद 22 सितंबर को प्राथमिकी दर्ज की गयी। तत्कालीन गृह सचिव जी के पिल्लै सहित 11 सेवारत और सेवानिवृत्त अधिकारियों के बयानों के आधार पर समिति ने अपनी 52 पृष्ठों की रिपोर्ट सौंपी। इसमें कहा गया कि 18 से 28 सितंबर 2009 के बीच दस्तावेज लापता हुए।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App