ताज़ा खबर
 

अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान में गिराए गए GBU-43 बम से मारा गया केरल का IS कमांडर

पूर्वी अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में केरल का रहने वाला और अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन आइएस का कमांडर मुर्शीद मोहम्मद टीके मारा गया है।

Author नई दिल्ली | Updated: April 15, 2017 6:23 AM
अमेरिका ने आइएसआइएस की पहाड़ी गुफाओं पर हमला किया (Photo-AP)

दीपक रस्तोगी
पूर्वी अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में केरल का रहने वाला और अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन आइएस का कमांडर मुर्शीद मोहम्मद टीके मारा गया है। गुरुवार शाम को अमेरिकी हवाई हमले में आतंकवादियों के एक अड्डे को तबाह कर दिया गया। 24 साल के मुर्शीद के बारे में उसके साथियों ने वाट्सऐप पर उसके घर वालों को सूचित किया। केरल के पडन्ना से 22 लोगों को बरगला कर आइएस में शामिल कराने का वह मास्टमाइंड था। उसके खिलाफ हाल में इंटरपोल ने ‘रेड कार्नर नोटिस’ जारी कर रखा था। केरल के कासरगोड जिले में पडन्ना अनुमंडल के विभिन्न गांवों से पिछले डेढ़ साल में लापता हुए 22 नौजवानों के मामले में राष्ट्रीय जांच एजंसी (एनआइए) छानबीन कर रही है। इस मामले से जुड़े एनआइए के आला अधिकारी के अनुसार, एनआइए के सुझाव पर ही अभी हाल मुर्शीद मोहम्मद टीके और उसके कई साथियों के खिलाफ ‘रेड कार्नर नोटिस’ जारी करने की अनुशंसा इंटरपोल को भेजी गई थी। उन सबके बारे में तमाम जानकारियां अफगानिस्तान में तैनात अमेरिकी फौज के कमांडरों के साथ भी साझा की गई थीं। मुर्शीद पडन्ना के हैदर विला गांव का रहने वाला था। मुर्शीद के भाई मुबारिस को उसकी मौत की सूचना वाट्स ऐप ग्रुप के जरिए मिली।

केरल से लापता होकर आइएस में शामिल होने वालों ने यह ग्रुप बना रखा है, जिसके जरिए वे अपने परिजनों को सूचनाएं देते हैं। मुर्शीद का पिता कतर में नौकरी करता था। कंप्यूटर इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद मुर्शीद भी वहीं नौकरी करने लगा। जून 2006 में उसने अपने आसपास के नौजवानों से संपर्क करना शुरू किया। उसकी पहल पर 22 युवा और जोड़े अपना घर छोड़कर लापता हो गए। बाद में इन सभी के आइएस में शामिल होने का पता चला।

भारत से गए आइएस के आतंकवादियों को अफगानिस्तान के नांगरहार में गड़बड़ी फैलाने के इरादे से तैनात किया गया है। तालिबानियों से अछूते रह गए पूर्वी अफगानिस्तान के इस इलाके को आइएस ने एक तरह से अपना गढ़ बना रखा है। वहां आइएस ने तीन हजार आतंकियों को जुटा रखा है। अमेरिकी फौज इस पहाड़ी इलाके में लगातार हवाई हमले कर रही है। 27 फरवरी को अमेरिकी ड्रोन हमले में वहां आइएस के कुछ आतंकी मारे गए थे, जिनमें केरल के पडन्ना का हाफिसुद्दीन टीके था। तब उसकी मौत की सूचना मुर्शीद मोहम्मद टीके ने उसके घर वालों को दी थी। मुर्शीद मोहम्मद को आइएस ने वहां कमांडर का ओहदा दे रखा था।

एनआइए के सुझाव पर इंटरपोल ने उसके खिलाफ ‘रेड कार्नर नोटिस’ जारी कर रखा था। अमेरिकी हवाई हमले में अफगानिस्तान के नांगरहार प्रांत में रहने वाला आइएस का कमांडर मुर्शीद मारा गया। गुरुवार शाम को हुए इस हमले में आतंकवादियों का एक अड्डा पूरी तरह तबाह हो गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आकाशवाणी को जाधव की सजा के खिलाफ पाकिस्तान में श्रोताओं से मिले संदेश
2 मोहनवीणा के आविष्कारक विश्वमोहन भट्ट और चो एस रामास्वामी जैसी कई शख्सि़यत को मिला पद्म सम्मान, पढ़ें किन-किन को मिली पहचान
3 पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा- विवाह के बाद महिलाओं को पासपोर्ट में नाम बदलवाने की जरूरत नहीं
जस्‍ट नाउ
X