ताज़ा खबर
 

इरोम शर्मिला ने कहा – मणिपुर विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने दिखाया अपने पैसे और बाहुबल का दम

शर्मिला ने कहा कि वह अपने गढ़ राज्य से कुछ समय के लिए दूर रहना चाहती है क्योंकि वह विधानसभा चुनावों के नतीजों से काफी खफा हैं।

Author कोयमबटूर | July 13, 2017 6:09 PM
इरोम शर्मीला। (Photo Source: AP/File)

मणिपुर समेत पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के नतीजें 11 मार्च को आने के बाद बीजेपी का विरोध करने वाली सभी पार्टियों के मुंह बने हुए हैं। अपनी नई पार्टी पीआईजेए बनाकर चुनावी मैदान में उतरी इरोम शर्मिला का कहना है कि बीजेपी ने पैसे और अपने बाहुबल का दम दिखाकर विधानसभा चुनाव जीता है। बीजेपी पर आरोप लगाते हुए मंगलवार को इरोम नें कहा कि मणिपुर के लोगों को ये एहसास होना चाहिए कि राज्य में सरकार बनाने के लिए बीजेपी ने इन चीजों का इस्तेमाल किया है। आपको बता दें कि इरोम शर्मिला ने इन चुनावों में केवल 90 वोट ही प्राप्त किए थे। शर्मिला ने कहा कि वह अपने गढ़ राज्य से कुछ समय के लिए दूर रहना चाहती है क्योंकि वह विधानसभा चुनावों के नतीजों से काफी खफा हैं। शर्मिला ने कहा कि वह एक महीने के लिए केरल के पालक्कड़ जिले स्थित अट्टापड़ी के एक मेडिटेशन सेंटर में रहकर शांती प्राप्त करने के लिए जा रही हैं।

गौरतलब है कि  थाउबल सीट पर मुख्यमंत्री इबोबी सिंह 15 हजार से ज्यादा वोटों से लगातार चौथी बार जीत गए वहां मैदान में उतरी इरोम शर्मिला तीन अंकों का आंकड़ा तक नहीं छू सकी और चौथे नंबर पर रहीं। हताश इरोम ने अब राजनीति से तौबा करते हुए भविष्य में कभी चुनाव नहीं लड़ने की कसम खा ली। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों पर आरोप लगाया कि चुनावों में खुल कर बाहुबल और धनबल का इस्तेमाल किया गया है। वैसे, इरोम इसके बावजूद बावजूद हार मानने को तैयार नहीं हैं। उन्होंने माना कि नतीजों से वे खुद को ठगा हुआ महसूस कर रही हैं। इसके साथ ही वह कहती हैं कि लोगों का कोई दोष नहीं है क्योंकि वोट के अधिकार पर पैसों की ताकत भारी पड़ गई है।

वहीं इरोम शर्मिला की हार पर राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना था कि उनकी इस हार का मतलब यह नहीं है कि आम लोगों में उनकी लोकप्रियता खत्म हो गई है। इसकी वजह एक राजनेता के तौर पर उनकी खामियां हैं। उन्होंने बिना सोचे-समझे राजनीति में उतरने का फैसला किया था जिसके कारण उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

देखिए वीडियो - मणिपुर के मुख्यमंत्री पर हुआ उग्रवादी हमला; बाल-बाल बचे

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App