IRCTC and Railway: ‘सात्विक सफर’ करवाएगी माता वैष्णो देवी जाने वाली वंदेभारत एक्सप्रेस, खाना ही नहीं ये चीजें भी होंगी शुद्ध ‘शाकाहारी’

वंदे भारत देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन है। इस ट्रेन को 2018 में तैयार किया गया। इसलिए इसे T18 के नाम से जाना जाता है। 2019 में प्रधानमंत्री मोदी ने पहली वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई थी

वैष्णो देवी जाने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस में यात्रियों को पूरा सात्विक माहौल उपलब्ध कराया जाएगा। (एक्सप्रेस फोटो)

नई दिल्ली से माता वैष्णो देवी कटरा के बीच चलने वाली वंदे भारत एक्सप्रेस अब यात्रियों को सात्विक सफ़र कराएगी। इस दौरान यात्रियों को पूरा सात्विक माहौल उपलब्ध करवाया जाएगा। यात्रियों को न सिर्फ खाना शाकाहारी मिलेगा बल्कि हाथ धोने वाला साबुन और दूसरी चीजें भी पूरी तरह से न्यूट्रल मटेरियल से बनी होंगी। इसके अलावा जिस किचन में इस ट्रेन के यात्रियों के लिए भोजन तैयार किया जाएगा वहां भी शाकाहारी चीजों के अलावा कुछ और नहीं होगा।    

आईआरसीटीसी को पहले इस ट्रेन में यात्रियों को शुद्ध शाकाहारी अनुभव देने की गारंटी के लिए सात्विक काउंसिल ऑफ़ इंडिया से सर्टिफिकेट हासिल करना होगा। हालांकि आईआरसीटीसी ने कटरा जाने वाली वंदे भारत ट्रेन की तरह दूसरे पवित्र स्थानों की ओर जाने वाली कुछ और ट्रेनों के लिए भी इस प्रमाणपत्र को प्राप्त करने का फैसला किया है। अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार न सिर्फ इस ट्रेन को सात्विक सर्टिफिकेट दिलाने की योजना है बल्कि यात्रियों के लिए तैयार किए जाने वाले किचन, दिल्ली और कटरा में यात्रियों के लिए बने लाउंज और जिंजर होटल के एक फ्लोर को भी सात्विक सर्टिफिकेट उपलब्ध करवाने की योजना है।

सात्विक काउंसिल ऑफ इंडिया के अधिकारियों के अनुसार वाराणसी जाने वाली वंदे भारत ट्रेन की तरह ही 18 और ट्रेनों में यह सर्टिफिकेट उपलब्ध करवाने की योजना है। सात्विक के विटुर्व पाठक ने कहा कि हम भविष्य के डिजिटल विकल्पों पर विचार कर रहे हैं कि सात्विक-प्रमाणित ट्रेन में शाकाहारी यात्रियों के लिए पीएनआर ऐसा हो कि यात्री ई-केटरिंग के माध्यम से बाहर से खाना भी मंगवा नहीं सकें क्योंकि उन्हें ऑर्डर करने पर केवल शाकाहारी विकल्प ही मिलेंगे। सात्विक के अधिकारी ने यह भी कहा कि पर्यटकों में शाकाहारी लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है जो यात्रा के दौरान सिर्फ शाकाहारी भोजन और उसी तरह का माहौल चाहते हैं।

बता दें कि वंदे भारत देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन है। इस ट्रेन को 2018 में तैयार किया गया। इसलिए इसे T18 के नाम से जाना जाता है। 15 फ़रवरी 2019 को प्रधानमंत्री मोदी ने पहली वंदे भारत ट्रेन को हरी झंडी दिखाई थी और इसे दिल्ली और वाराणसी के बीच चलाई गई। दूसरी वंदे भारत ट्रेन नई दिल्ली और माता वैष्णो देवी कटरा के बीच शुरू की गई। इसी साल स्वतंत्रता दिवस के प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आने वाले समय में देश के हर कोने को जोड़ने के लिए 75 वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेनें चलेंगी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
शर्मसार हुई मां की ममता: 3 बेटियों को सुलाया मौत की नींदsangam vihar, sangam vihar murder, ambedkar nagar police station, delhi news