ताज़ा खबर
 

मोदी व‍िरोधी आईपीएस ने कहा- अरुंधत‍ि राय को जीप में बांधेेंगे तो मैं भी उनके साथ बंधना चाहूंगा

संजीव भट्ट 1988 बैच के आईपीएस हैं। सरकार ने अनुशासनहीनता के आरोप में उन्हें बर्खास्त कर दिया है।

गुजरात कैडर के आईपीएस अफसर संजीव भट्ट। (PHOTO: ANI)

गुजरात कैडर के पूर्व आईपीएस अफसर संजीव भट्ट ने अरुंधति रॉय के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा है अगर अरुंधति रॉय को आर्मी जीप की बोनट पर बांध कर घुमाया जाएगा तो मैं भी उनके साथ बंधना चाहूंगा। संजीव भट्ट का ये ट्वीट फिल्म कलाकार और बीजेपी सांसद परेश रावल के उस ट्वीट के जवाब में आया जिसमें उन्होंने लिखा था कि आर्मी जीप की बोनट पर पत्थरबाजों की जगह अरुंधति रॉय को बांध कर घुमाना चाहिए। रावल का इशारा उस वीडियो की तरफ था जिसमें भारतीय सेना के मेजर लीतुल गोगोई ने कश्मीरी युवक फारूक़ दार को जीप के बोनट के आगे बांधकर घुमाया था। सेना के अनुसार ये कदम पत्थरबाजों से बचने के लिए उठाया गया था। वहीं फारूक़ दार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा था कि उन्होंने कभी पत्थरबाजी नहीं की थी और वो चुनाव में वोट देते थे। सोमवार को किये गए परेश रावल के इस ट्वीट पर पूरे देश में माहौल एक बहस छिड़ गई कि क्या किसी सांसद को इस तरह की बात करनी चाहिए। आपको बता दें कि अरुंधति रॉय हिंदुस्तान की बड़ी लेखिका हैं।

अहमदाबाद से सांसद परेश रावल के ट्वीट को गुजरात में ही आईपीएस अफसर रहे संजीव भट्ट ने रिट्वीट करते हुए लिखा कि अगर अरुंधति रॉय को आर्मी जीप की बोनट पर बांध कर घुमाया जाएगा तो मैं भी उनके साथ बंधना चाहूंगा, क्योंकि कश्मीर के मुद्दे पर अरुंधति के हर एक बात से मैं पूरी तरह सहमत हूं।

 

संजीव भट्ट 1988 बैच के आईपीएस हैं। सरकार ने अनुशासनहीनता के आरोप में उन्हें बर्खास्त कर दिया है। संजीव भट्ट ने 2002 गुजरात दंगों के मामले में तत्कालीन गुजरात सरकार और मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका पर सवाल उठाया था।

परेश रावल, रज़ा मुराद ने फिल्म शुरु होने से पहले राष्ट्रीय गान बजाने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया समर्थन

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App