ताज़ा खबर
 

गुजरात के पूर्व आईपीएस ने कहा- 2014 के मुजफ्फरनगर की तरह 2019 की तैयारी है कासगंज दंगा

गुजरात के पूर्व आईपीएस अफसर संजीव भट्ट ने यूपी में कासगंज हिंसा के पीछे राजनीतिक साजिश की तरफ इशारा किया है। कहा है कि यह घटना 2019 के लोकसभा चुनाव की तैयारी है।

कासगंज में हिंसा भड़कने के बाद पेट्रोलिंग करते सिक्यूरिटी फॉर्सेस के जवान। ( फोटो-इंडियन एक्सप्रेस)

उत्तर प्रदेश के कासगंज में गणतंत्र दिवस पर भड़की हिंसा के बाद राजनीति तेज हो गई है। पक्ष-विपक्ष के साथ कई संगठनों और पूर्व अफसरों ने भी आरोप-प्रत्यारोप लगाने शुरू किए हैं। गुजरात के बर्खास्त आईपीएस अफसर संजीव भट्ट ने उत्तर प्रदेश की कासगंज हिंसा के पीछे राजनीतिक साजिश की ओर इशारा किया है। उनके ट्वीट पर लोगों की तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। संजीव भट्ट ने 28 जनवरी को 12.52 मिनट पर ट्वीट कर कहा है- ‘‘ कासगंज तो शुरुआत है, यह लो-ग्रेड सांप्रदायिक बुखार 2019 के लोकसभा चुनाव तक जारी रहेगा। ठीक उसी तरह जैसे 2014 के लिए मुजफ्फरनगर कांड हुआ था। इस बार यह और बड़े पैमाने पर होगा और इसका असर गहरा होगा। ” उनके ट्वीट के बाद लोगों ने ट्रोल भी किया। वहीं कुछ लोगों ने पूर्व पुलिस अफसर पर विपक्षी नेताओं से मिलीभगत का आरोप लगाया। राजीव चड्ढा ने कहा-भारत आप पर भरोसा नहीं करता भट्ट। डॉ. सलाम अंसारी ने कहा-दुर्भाग्यपूर्ण मगर सत्य। अभिनेश स्वामी ने तंज कसते हुए कहा- बस अंकल जी, हो गया आपका।
यूपी के छोटे जिले कासगंज में गणतंत्र दिवस के मौके पर उस वक्त हिंसा भडक गई थी, जब कुछ लोग तिरंगा यात्रा निकाल रहे थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रास्ता मांगे जाने को लेकर हुई कहासनी बड़े फसाद में बदल गई। दौरान चली गोली में चंदन गुप्ता नामक युवक की मौत हो गई, वहीं एक अन्य युवक राहुल उपाध्याय घायल हो गए थे। चंदन के अंतिम संस्कार के बाद भी कस्बे में हिंसा भड़क उठी और दुकानें आदि जलाने की घटना हुई। चार दिन से लगातार कासगंज में तनावपूर्ण शांति बनी हुई है।

कानून-व्यवस्था की बहाली के लिए पुलिस ने अब तक दोनों पक्षों से 112 लोगों को गिरफ्तार किया है। इस घटना में सात लोगों के खिलाफ नामजद केस दर्ज है। पुलिस अफसरों के मुताबिक वीडियो फुटेज के आधार पर हिंसा में शामिल लोगों को चिह्नित कर गिरफ्तार किया जा रहा है। मुख्य आरोपी शकील फरार बताया जाता है। उसके घर से देसी बम और पिस्टल बरामद होने की बात कही जा रही। नवनियुक्त डीजीपी ओपी सिंह ने स्थिति को नियंत्रण में बताया है। कहा है कि कस्बे में तनावपूर्ण शांति है। हिंसा में शामिल लोगों को चिह्नित कर गिरफ्तार किया जा रहा। कासगंज में नेताओं के जाने पर भी रोक लगा दी गई है। ताकि कोई आम जनता की भावनाएं भड़काने का काम न करे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एक साथ हों सभी चुनाव: पीएम मोदी के आइडिया को नीतीश कुमार ने यूं दिया झटका
2 Budget 2018 Parliament Session: राष्‍ट्रपति के अभिभाषण के बाद लोकसभा में पेश हुआ आर्थिक सर्वे, GDP 7-7.5 फीसदी रहने का अनुमान
3 राष्ट्रपति से खुश नहीं हैं भाजपा के कुछ नेता, ये है वजह