ताज़ा खबर
 

पनामा पेपर्स: अमिताभ बच्चन और दूसरी हस्तियों से जुड़ी जानकारियां जुटा रहा इनकम टैक्स विभाग

पनामा की लॉ फर्म मोसेक फोंसेका के लीक हुए दस्‍तावेज की जांच करने के बाद द इंडियन एक्‍सप्रेस अखबार ने चार अप्रैल को रिपोर्ट दी थी कि अमिताभ बच्‍चन 1993 से 1997 के बीच टैक्‍स हैवेन समझे जाने वाले देशों में चार कंपनियों के डायरेक्‍टर रहे थे।
बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन।

पनामा पेपर्स को लेकर आयकर विभाग, अमिताभ बच्चन और अन्य हस्तियों के बारे में जानकारी जुटाने के काम में लग गया है। पनामा पेपर्स लीक में जिन लोगों के नाम सामने आए थे उनके बारे में जानकारी हासिल करने के लिए विभाग ने एक उच्च स्तर के अफसर को ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड भेजा है। टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक कर विभाग ने पनामा पेपर्स से जुड़े 33 लोगों के खिलाफ मुकदमें दर्ज किए हैं और अन्य के खिलाफ जांच शुरू की है। खबर के मुताबिक एक अधिकारी ने कहा, “जांच में कोई ढिलाई नहीं होगी। हम युद्धस्तर पर दूसरे देशों से जानकारी जुटाने में लगे हैं।” अमिताभ बच्चन को लेकर अधिकारी ने आगे कहा, “उन्होंने(बच्चन) कहा था कि पनामा पेपर्स में बताए गए किसी फर्म के मालिक वह नहीं है। ऐसे में हम यूं ही जांच शुरू नहीं कर सकते। हमें और जानकारी जुटानी होगी।”

अधिकारी ने आगे बताया, “हमने सीबीडीटी के एक अधिकारी को ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड भेजा है ताकि इस मामले मे ज्यादा जानकारी हासिल की जा सके। हम और भी कई देशों से जानकारी जुटाने की कोशिश में हैं। उसके बाद हम आकलन कर देखेंगे कि कोई उल्लंघन हुआ है या नहीं।” बता दें पनामा पेपर्स में अमिताभ और उनकी बहू ऐश्वर्या राय बच्चन का नाम भी आया था। दस्‍तावेजों में पाया गया था कि टैक्‍स हैवन देशों में बनाई गई कंपनियों में एश्‍वर्या राय और अमिताभ बच्‍चन डायरेक्‍टर के तौर पर जुड़े थे। हालांकि, अमिताभ ने इन आरोपों से इनकार कर चुके हैं। उनका दावा है कि वह कभी इस प्रकार की कंपनियों में डायरेक्‍टर नहीं रहे, उनके नाम का गलत इस्‍तेमाल किया गया है।

पनामा की लॉ फर्म मोसेक फोंसेका के लीक हुए दस्‍तावेज की जांच करने के बाद द इंडियन एक्‍सप्रेस अखबार ने चार अप्रैल को रिपोर्ट दी थी कि अमिताभ बच्‍चन 1993 से 1997 के बीच टैक्‍स हैवेन समझे जाने वाले देशों में चार कंपनियों के डायरेक्‍टर रहे थे। वहीं इस मामले में बीते साल अमिताभ बच्चन से इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने पहले भी सवाल पूछे थे, जिनके जवाब उन्‍होंने भेजे थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.