ताज़ा खबर
 

सुभाष जयंती: कोलकाता में गेट पर बीजेपी कार्यकर्ताओं को बांटे जा रहे थे सरकारी कार्यक्रम के पास, जय श्रीराम के नारे पर बीजेपी बंटी

हालाँकि अख़बार ने ममता बनर्जी के संबोधन के दौरान जय श्री राम का नारा लगा रहे एक व्यक्ति से जब बातचीत की तो उसने बताया कि वह पीएम मोदी को रिसीव करने एयरपोर्ट भी गया था। साथ ही उस व्यक्ति से जब यह पूछा गया कि उसने ममता बनर्जी के भाषण के समय जय श्री राम का नारा क्यों लगाया तो उसने कहा कि यह हमारे भारतीय संस्कृति का हिस्सा है।

narendra modi , mamta banerjee , kolkataपराक्रम दिवस के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी के साथ मंच पर मौजूद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (फोटो – पीटीआई)

कल शनिवार को कोलकाता में आयोजित पराक्रम दिवस का कार्यक्रम भी विवादों की भेंट चढ़ गया। विक्टोरिया मेमोरियल में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125 वीं जयंती पर आयोजित समारोह में ममता बिफर पड़ीं। जैसे ही ममता ने अपना संबोधन शुरू किया तो भीड़ में से किसी ने जय श्री राम का नारा लगा दिया। जिसके बाद ममता ने कार्यक्रम को संबोधित करने से मना कर दिया और कहा कि मुझे बुलाने के बाद मेरा अपमान मत कीजिए। शनिवार को हुए घटनाक्रम पर बंगाल बीजेपी दो खेमों में बंटी नजर आ रही है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है कि इस सरकारी कार्यक्रम में शामिल होने के लिए बीजेपी नेताओं को जमकर पास बांटे गए थे।

टेलीग्राफ अख़बार ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि कार्यक्रम के शुरू होने से पहले विक्टोरिया मेमोरियल के दक्षिणी गेट पर बीजेपी नेताओं और समर्थकों को पास बांटे जा रहे थे। आश्चर्य कि बात यह है कि उसी दक्षिणी गेट से अधिकांश वीआईपी कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे थे। इस दौरान पश्चिम बंगाल बीजेपी के अध्यक्ष दिलीप घोष जैसे ही कार्यक्रम में शामिल होने के लिए दक्षिणी गेट से अंदर की तरफ आ रहे थे तो गेट पर मौजूद भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनका अभिवादन भी जय श्री राम कह कर किया। 

हालाँकि अख़बार ने ममता बनर्जी के संबोधन के दौरान जय श्री राम का नारा लगा रहे एक व्यक्ति से जब बातचीत की तो उसने बताया कि वह पीएम मोदी को रिसीव करने एयरपोर्ट भी गया था। साथ ही उस व्यक्ति से जब यह पूछा गया कि उसने ममता बनर्जी के भाषण के समय जय श्री राम का नारा क्यों लगाया तो उसने कहा कि यह हमारे भारतीय संस्कृति का हिस्सा है। अगर ममता दीदी को इससे दिक्कत है तो हम कुछ नहीं कर सकते हैं। हालाँकि उस व्यक्ति ने अखबार को अपने बारे में कुछ भी बताने से मना कर दिया।

पराक्रम दिवस के कार्यक्रम में हुई नारेबाजी की घटना पर बीजेपी में भी दो फाड़ देखने को मिला। बीजेपी नेता और प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि कार्यक्रम में हुई नारेबाजी बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण है। हालांकि बीजेपी नेता और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने सरकारी कार्यक्रम में जय श्री राम की नारेबाजी को जायज ठहराया। विजयवर्गीय ने कहा कि जय श्री राम कह कर अभिवादन करना ममता जी को अपमान लगता है। पता नहीं यह किस तरह की राजनीति है।

हालांकि इस पूरे घटनाक्रम के दौरान मंच पर मौजूद रहे पीएम मोदी ने अपने संबोधन की शुरुआत में मुख्यमंत्री को बहन ममता कहकर बुलाया। लेकिन उन्होंने ममता बनर्जी के संबोधन के दौरान हुई नारेबाजी की कोई चर्चा तक नहीं की।

Next Stories
1 दिल्ली पुलिस ने दी ट्रैक्टर परेड निकालने की इजाजत, किसान संगठनों ने कहा, मार्गों पर बनी सहमति
2 अर्नब चैट विवादः रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, सेना के बारे में इस तरह की बात ग़लत
3 वैक्सीन पर उठ रहे सवाल, AIIMS के निदेशक बोले- पैंडेमिक के बाद आई ‘इन्फोडेमिक’
ये पढ़ा क्या?
X