ताज़ा खबर
 

‘हनुमान जी के लाइफ मैनेजमेंट’ पर रायपुर विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय सेमिनार

छत्तीसगढ़ के एक सरकारी पत्रकारिता विश्वविद्यालय में भगवान हनुमान पर इंटरनेशनल सेमिनार का आयोजन हो रहा है। इसके लिए पूरे विश्व से रिसर्च पेपर आमंत्रित किए गए हैं।

हनुमान जी के लाइफ मैनेजमेंट पर रायपुर विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय सेमिनार। (एक्सप्रेस अर्काइव फोटो)

छत्तीसगढ़ में सरकार द्वारा संचालित एक पत्रकारिता विश्वविद्यालय में भगवान हनुमान पर इंटरनेशनल सेमिनार का आयोजन हो रहा है। यूनिवर्सिटी चाहती है कि यहां के छात्र भगवान हुनमान से जीने की कला सीखें। भगवान हुनमान का लाइफ मैनेजमेंट उन्हें बताया जाएगा। वर्तमान परिदृश्य में उनके लाइफ मैनेजमेंट की व्याख्या की जाएगी। इन सब के साथ यहां कम्यूनिकेशन स्किल पर भी बात होगी। इसके लिए पूरे विश्व से रिसर्च पेपर आमंत्रित किए गए हैं। सेमिनार का थीम “हनुमान जी का लाइफ मैनेजमेंट” और “हनुमान जी का वर्तमान और प्राचीन स्वरूप” है। एनडीटीवी के अनुसार, रायपुर स्थित कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता और जन संचार विश्वविद्यालय का तर्क है कि 7 और 8 सितंबर को आयोजित सेमिनार, जिसका शीर्षक “हनुमान और आध्यात्मिक संचार में वैश्विक संस्कृति: इतिहास, परंपरा और मतभेद” है, विश्वविद्यालय का कार्यक्रम नहीं है।

विश्वविद्यालय के कुलपति एमएस परमार कहते हैं, “इस कार्यक्रम का आयोजन अयोध्या रिसर्च इंस्टीट्यूट और कल्चर डिपार्टमेंट के द्वारा उत्तर प्रदेश के कल्चर डिपार्टमेंट के इंडोलॉजी एंड हेरिटेज मैनेजमेंट विभाग के साथ मिलकर किया जा रहा है। इसमें शामिल होने के लिए विदेश से भी लोग आ रहे हैं। पूरे विश्व से हमने करीब 60 रिसर्च पेपर प्राप्त किए हैं।” बता दें कि एक ऋषि और भगवान विष्णु के भक्त नारद मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित मखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रम में शामिल हैं। वहां उन्हें पहले पत्रकार के रूप में वर्णित किया गया है, जिन्हें समाचार एकत्र करने की कला में महारत हासिल थी।

इस सेमिनार पर राजनीति भी शुरू हो गई है। कांग्रेस ने कहा है कि ऐसी घटनाओं का आयोजन सार्वजनिक धन की बर्बादी है। कांग्रेस प्रवक्ता शैलेश त्रिवेदी ने कहा कि, “बीजेपी पूरी शिक्षा प्रणाली को राजनीतिकरण और राजनीतिक बनाने की कोशिश कर रही है। एक धर्म को बढ़ावा देने के लिए सार्वजनिक धन का दुरुपयोग अच्छा नहीं है।” वहीं भाजपा के पार्टी प्रवक्ता केदार गुप्ता कहते हैं, “भगवान राम और हनुमान सिर्फ हिंदू धर्म के भगवान नहीं है, बल्कि वे भारतीय सभ्यता के एक हिस्सा हैं। कांग्रेस शत्रुता को बढ़ावा देने में विश्वास रखती है। इस तरह का आयोजन किसी धर्म का अपमान नहीं है।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App