ताज़ा खबर
 

इंस्पेक्टर सुबोध की बहन बोली, ‘अखलाक केस की जांच की थी, इसलिए मारा गया मेरा भाई, सीएम सिर्फ गाय-गाय ही करते हैं’

इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की बहन ने कहा, "हम पैसा नहीं चाहते हैं। मुख्यमंत्री सिर्फ गाय-गाय की रट लगाए रखते हैं।" उन्होंने मांग की है कि उनके भाई को शहीद घोषित किया जाए और उनके नाम पर एक मेमोरियल का निर्माण कराया जाए।

इंस्पेक्टर सुबोध की बहन ने कहा है कि सीएम सिर्फ गाय-गाय करते हैं. (फोटो सोर्स- ANI ट्वीटर हैंडल)

बुलंदशहर हिंसा में मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की बहन ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर सीधा हमला बोला है। ANI के मुताबिक सुबोध की बहन का कहना है कि उनके भाई बहुचर्चित अखलाक मर्डर केस के जांच अधिकारी रह चुके थे। इसीलिए उनकी हत्या की गयी है। उन्होंने कहा, “मेरे भाई अखलाक मामले की जांच कर रहे थे। इसी वजह से उनकी हत्या की गई। यह पुलिस के द्वारा साजिश है।”

इंस्पेक्टर सुबोध की बहन ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी आलोचना की। उन्होंने कहा, ” हम पैसा नहीं चाहते हैं। मुख्यमंत्री सिर्फ गाय-गाय की रट लगाए रखते हैं।” उन्होंने मांग की है कि उनके भाई को शहीद घोषित किया जाए और उनके नाम पर एक मेमोरियल का निर्माण कराया जाए।

गौरतलब है कि इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह दादरी में हुए मॉब लिंचिंग के शिकार अखलाक मामले की पड़ताल कर चुके थे। इसके बाद उनका वहां से ट्रांसफर कर दिया गया था। मंगलवार को मीडिया के साथ बातचीत में प्रदेश के एडीजी आनंद कुमार ने बताया सुबोध सिंह ने अखलाक मामले की शुरुआती जांच की थी। लेकिन, बाद में उनका ट्रांसफर हो गया। सुबोध का वहां से ट्रांसफर क्यों हुआ, इस पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। इससे पहले सुबोध सिंह की मृत्यु के तुरंत बाद ही प्रदेश सरकार ने उनके परिजनों को 50 लाख रुपये की मदद का ऐलान किया था।

सोमवार को गोवंश का अवशेष मिलने के बाद मचे बवाल को कंट्रोल करने के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की मौत हो गयी। दरअसल, हिंसक भीड़ ने सुबोध सिंह और उनकी टीम पर हमला बोल दिया। जिसके बाद उनके मृत्यु की बात सामने आई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके सिर में गोली लगने की पुष्टि हो चुकी है।

इंस्पेक्टर सुबोध की बहन का पूरा बयान यहां देखें– (सौ. एबीपी)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App