ताज़ा खबर
 

धर्म के आधार पर लोगों को भड़काने के आरोप में न्‍यूज एंकर के खिलाफ एफआईआर

मातृभूमि न्यूज टेलीविजन चैनल के एंकर वेणु बालकृष्णनन पर एक न्यूज प्रोग्राम के दौरान सांप्रदायिक घृणा फैलाने के आरोप लगे हैं। सोमवार को एडीटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भी इस मामले में पुलिस कारवाई की आलोचना की है।

एडिटर्स गिल्ड के बाद आईएनएस ने भी केरल पुलिस की आलोचना की। (express photo)

केरल में एक न्यूज एंकर पर धर्म के आधार पर लोगों को भड़काने का आरोप लगा है। बता दें कि केरल पुलिस ने न्यूज एंकर के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज कर ली है। अब प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री की सर्वोच्च संस्था, आईएनएस (इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी) ने केरल पुलिस के इस फैसले की कड़ी आलोचना की है और इसे प्रेस और मीडिया की स्वतंत्रता पर हमला बताया है। बता दें कि मातृभूमि न्यूज टेलीविजन चैनल के एंकर वेणु बालकृष्णनन पर एक न्यूज प्रोग्राम के दौरान सांप्रदायिक घृणा फैलाने के आरोप लगे हैं। सोमवार को एडीटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने भी इस मामले में पुलिस कारवाई की आलोचना की है।

अपने एक मीडिया रिलीज में आईएनएस ने बुधवार को कहा कि “आरोपों के आधार पर लगातार मीडिया पर हमले किए जा रहे हैं और एक लोकतांत्रिक देश में प्रेस की स्वतंत्रता के लिए गंभीर चुनौती खड़ी की जा रही है। आईएनएस ने केरल सरकार से इस मामले में तुरंत सुनवाई रोकने के मांग की है। गौरतलब है कि सोमवार को एडीटर्स गिल्ड ने अपने बयान में कहा है कि गिल्ड यह समझती है कि मिस्टर बालकृष्णनन ने एक एंकर होने के नाते क्या कहा है। उनकी बात को अलग नजरिए से देखा गया और इसके आधार पर उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। राज्य की वामपंथी सरकार को इस दुर्भाग्यपूर्ण मामले का, जिसे सरकार द्वारा समर्थित एक संगठन द्वारा बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया, संज्ञान लेना चाहिए। साथ ही यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि पुलिस ऐसा कोई कदम ना उठाए, जिससे प्रेस की स्वतंत्रता का हनन हो।

बता दें कि न्यूज एंकर वेणु बालकृष्णनन के खिलाफ एफआईआर 2 शिकायतों के आधार पर दर्ज की गई थी। इसमें से एक शिकायत DYFI के एक स्थानीय नेता द्वारा दर्ज करायी गई, वहीं दूसरी शिकायत सीपीआई(एम) की यूथ विंग के एक नेता द्वारा दर्ज करायी गई थी। बता दें कि जिस प्रोग्राम के दौरान न्यूज एंकर ने विवादित टिप्पणी की, वह बीते 7 जून को प्रसारित किया गया था। इस प्रोग्राम में पुलिस के मनमानी रवैये पर बहस हुई थी। इसी दौरान एंकर ने कुछ विवादित टिप्पणी की थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App