ताज़ा खबर
 

संक्रमण ने फिर पकड़ी रफ्तार, दिल्ली में 24 घंटे में 813 नए कोरोना मरीज मिले, दो की मौत

दिल्ली में अब तक 13742763 कोरोना संक्रमण की जांच की जा चुकी है। मामले बढ़ने की वजह से सरकारी एजंसियों ने अधिक मामले वाले इलाकों को सील करना भी शुरू कर दिया है। इस समय दिल्ली मेें कुल 712 सील क्षेत्र हैं।

Author नई दिल्ली | March 21, 2021 4:55 AM
Coronavirus, COVID-19, India Newsकोरोना वायरस टेस्ट के दौरान महिला का सैंपल लेता हेल्थ वर्कर। (फोटोः पीटीआई)

कोरोना संक्रमण के मामलों ने दिल्ली में फिर रफ्तार पकड़ ली है। शनिवार को एक बार फिर 24 घंटे में रिकार्ड बढ़ोतरी दर्ज की गई है। राजधानी में कोरोना संक्रमण के 813 नए मामले सामने आए हैं और इस वजह से दो मरीजों की मौत हुई है। इस वर्ष में ये अब तक के सबसे अधिक मामले हैं। लगातार सामने आ रहे नए मामलों की वजह से सक्रिय मामलों का आंकड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है। केवल एक सप्ताह में दिल्ली में 903 नए सक्रिय मामले बढ़ गए हैं। बीते वर्ष इसी दौरान दिल्ली में कोरोना के मामलों की रफ्तार में बढ़ोतरी दर्ज की गई थी।

दिल्ली सरकार की रिपोर्ट के मुताबिक शनिवार को संक्रमण की दर 1.07 फीसद तक पहुंच गई। इन चौबीस घंटे में दिल्ली में कोरोना संक्रमण की 75888 जांच की गई थी और इस समय सीमा के अंदर 567 मरीज ठीक होकर वापस अपने घर भी लौटे हैं। नए मामले सामने आने के बाद अब सक्रिय मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 3409 तक पहुंच गया है। बीते दिनों में यह आंकड़ा 1000 मामलों से भी नीचे चला गया था। इस समय दिल्ली में 1722 मरीजों का इलाज घर में एकांतवास में किया जा रहा है।

इस समय अस्पताल में 868 और कोविड केयर सेंटर में छह मरीज भर्ती हैं। दिल्ली में अब तक 13742763 कोरोना संक्रमण की जांच की जा चुकी है। मामले बढ़ने की वजह से सरकारी एजंसियों ने अधिक मामले वाले इलाकों को सील करना भी शुरू कर दिया है। इस समय दिल्ली मेें कुल 712 सील क्षेत्र हैं।

रक्तदान से तीर्थयात्रा जैसा पुण्य : हर्षवर्धन
केंद्रीय स्वास्थ्यमंत्री डॉ हर्षवर्धन ने शनिवार को रेड क्रॉस सोसाइटी मुख्यालय में एनएटी (न्यूक्लिक एसिड टेस्टिंग) जांच सुविधा का उद्घाटन किया। थैलेसीमिया स्क्रीनिंग के बारे में उन्होंने कहा कि विवाह पूर्व रक्त कुंडली मिलाना जन्म कुंडली से अधिक महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि रक्तदान से भी विभिन्न तीर्थ यात्रा जैसा पुण्य मिलता है।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के चरम के दौरान आइआरसीएस के 80 रक्त केन्द्रों ने उल्लेखनीय भूमिका निभाई। उन्होंने दो रक्त संकलन वाहनों समेत तीन पूर्ण रूप से सुविधा संपन्न वाहनों को भी हरी झंडी दिखाई। इनका इस्तेमाल रेड क्रास रक्त केंद्र में रक्त जुटाने में किया जाएगा। मंत्री ने कहा कि एनएटी जांच से एचआइवी, हेपेटाइटिस बी-सी जैसे जोखिम में कमी आएगी।

Next Stories
1 कोविड-19 से राहत नहीं, लगातार बढ़ रहे मामले, शनिवार को संक्रमण के 43 हजार से अधिक नए केस
2 महाराष्ट्र: धारावी में एक बार फिर खतरे की घंटी, मार्च में कोरोना के मामले 62 फीसद तक बढ़े
3 मोदी जी ने भारत वालों को सिर्फ ‘बतोला’ दिया, ओपन डिबेट में युवक का तंज- ये दो करोड़ नौकरी देंगे, 15 लाख भी देंगे
ये पढ़ा क्या?
X