ताज़ा खबर
 

संक्रमित मृतकों का सीएनजी से नि:शुल्क होगा संस्कार

नोएडा लोकमंच संस्था विगत 20 साल से अंतिम निवास का प्रबंधन कर रहा है। अंतिम निवास पर आने वाले लावारिस शवों का अंतिम संस्कार नि:शुल्क किया जाता है तथा पोस्टमार्टम के बाद मृत देह को पैक करने हेतु पैकिंग सामग्री भी निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है।

जलती चिता (फाइल फोटो)

करीब 50 दिन की पूर्णबंदी का असर मृतकों की अस्थि विसर्जन पर पड़ा है। इसके चलते नोएडा के सेक्टर- 94 स्थित अंतिम निवास के अस्थिकलश रखने वाले लॉकर भर चुके हैं। अंतिम निवास का प्रबंधन देख रही नोएडा लोकमंच संस्था को बंदी के दौरान दो नए लॉकर सेट मंगाने पड़े हैं। हालांकि विगत दो दिन से कुछ लोग अपने परिजनों की अस्थियों को हरिद्वार, गढ़ मुक्तेश्वर आदि में विसर्जन के लिए ले गए हैं। वहीं, अंतिम निवास प्रबंधन ने कोरोना संक्रमित मृतकों का सीएनजी से अंतिम संस्कार नि:शुल्क कराने का निर्णय लिया है। यहां के अंतिम निवास में तीन कोरोना संक्रमित मृतकों का अंतिम संस्कार सीएनजी से किया गया है।

इस वैश्विक आपदा के मद्देनजर नोएडा लोकमंच ने बुधवार को निर्णय लिया कि कोरोना मृतकों का अंतिम संस्कार निशुल्क किया जाएगा। बताया गया कि 12 मई को गौतमबुद्धनगर में कोरोना संक्रमण के कारण मृत व्यक्ति के दाह संस्कार के लिए मृतक के साथ आए लोगों ने निर्धारित शुल्क देने में परेशानी जताई। इसके बाद कोरोना मृतकों का अंतिम संस्कार निशुल्क करने का निर्णय लिया गया। हालांकि, जो परिजन संस्कार नि:शुल्क नहीं कराना चाहेंगे, वे निर्धारित शुल्क जमा कर सकते हैं।

नोएडा लोकमंच संस्था विगत 20 साल से अंतिम निवास का प्रबंधन कर रहा है। अंतिम निवास पर आने वाले लावारिस शवों का अंतिम संस्कार नि:शुल्क किया जाता है तथा पोस्टमार्टम के बाद मृत देह को पैक करने हेतु पैकिंग सामग्री भी निशुल्क उपलब्ध कराई जाती है। इसी क्रम में नोएडा लोकमंच द्वारा कोरोना मृतकों के परिजनों से सहानुभूति रखते हुए कोरोना मृतकों का अंतिम संस्कार नि: शुल्क करने का निर्णय लिया है।

संस्था के महासचिव महेश सक्सेना ने बताया कि सीएनजी से अंतिम संस्कार कराने में करीब 2300 रुपए का खर्च आता है। जिसकी बाकयदा रसीद काटकर मृतक के परिजनों को उपलब्ध कराई जाती है। वहीं, पूर्णबंदी के चलते विगत करीब 50 दिन से अंतिम निवास में मृतकों के अस्थिकलश विसर्जन के लिए नहीं जा पाए थे। जिसके चलते यहां के सभी 100 लॉकर भर गए थे। जिसके बाद लोकमंच ने दो सैट नए लॉकर मंगाए थे। बताया गया है कि विगत दो दिन से यहां से कुछ परिजन अस्थि कलश विसर्जन के लिए लेकर गए हैं।

Next Stories
1 महिला शक्ति: कोरोना से दुनिया को सबसे पहले अवगत कराने वाली महिला जून अल्मेडा
2 Indian Railway: 22 मई से देशभर में चलेंगी एक्सप्रेस, मेल ट्रेनें, IRCTC की वेबसाइट से होगी बुकिंग
3 पीएम केयर्स फंड से प्रवासी मजदूरों के लिए 1000 करोड़ रुपये आवंटित, वेटिंलेटर और वैक्सीन पर खर्च होंगे 2100 करोड़
ये पढ़ा क्या?
X