आनंद महिंद्रा को लगता है कि वो पद्म सम्मान के काबिल नहीं, राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट को टैग कर कही ये बात

कहा कि “सरकार ने पद्म पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं के चयन मानक में व्यापक बदलाव किया है। अब, मुख्य रूप से जमीनी स्तर पर समाज के सुधार में मौलिक योगदान देने वाले व्यक्तियों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। मैं वास्तव में उस स्तर में खुद को शामिल होने के योग्य नहीं महसूस कर रहा हूं।”

महिंद्रा समूह के अध्यक्ष आनंद महिंद्रा को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया।

देश के जाने-माने उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने कहा है कि पद्म सम्मान पाने के काबिल नहीं है। उन्होंने कहा कि “सरकार ने पद्म पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं के चयन मानक में व्यापक बदलाव किया है। अब, मुख्य रूप से जमीनी स्तर पर समाज के सुधार में मौलिक योगदान देने वाले व्यक्तियों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है। मैं वास्तव में उस स्तर में खुद को शामिल होने के योग्य नहीं महसूस कर रहा हूं।” हालांकि राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उन्हें पद्मभूषण सम्मान से सम्मानित किया है।

अपनी बात को उन्होंने ट्वीट करके कहा। इसके साथ ही राष्ट्रपति के ट्विटर अकाउंट को भी टैग किया। उसमें उन्होंने तुलसी गौड़ा को पद्मश्री प्रदान करने का जिक्र किया। वह कर्नाटक की एक पर्यावरणविद् हैं, जिन्होंने 30,000 से अधिक पौधे लगाए हैं और पिछले छह दशकों से पर्यावरण संरक्षण गतिविधियों में शामिल हैं।

इसके अलावा कर्नाटक के मंगलुरु के फल-विक्रेता हरेकला हजब्बा, जिन्होंने अपनी कमाई से अपने गांव में एक स्कूल बनाया, को पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वे पुरस्कार लेने के लिए राष्ट्रपति भवन में नंगे पैर आए और वही कपड़े पहने थे, जो वे अपने घर में पहनते हैं। उन्होंने कहा कि “मुझे शिक्षा नहीं मिली। इसकी वजह से मैं एक स्कूल बनाने के लिए प्रेरित हुआ। मेरा सपना था कि मेरे गांव का हर बच्चा शिक्षित हो। कहा कि आज स्कूल में 10वीं कक्षा तक के 175 छात्र हैं।”

उनके इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर कई लोगों ने उन्हें कमेंट करके जवाब भी दिए हैं। प्रशांत कुमार पांडेय @PRASHANTKP23 ने कहा, “यह वास्तव में विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के सम्मान और आभार की भावना है, जिन्होंने समाज और उस क्षेत्र में जहां वे रह रहे हैं, बेहतरी और उत्थान के लिए सामाजिक कार्यकर्ताओं के रूप में काम किया है।”

मंसूर खान एमएफके@MansoorKhanMoh5 नाम के यूजर ने लिखा, “महोदय@anandmahindra सभी जागृति और ज्ञान केवल 2014 के बाद हुए, सभी चाटुकार लक्षणों के लिए यहां तक कि उद्योगपति भी पीआर ब्रांडिंग कर रहे हैं। @नरेंद्र मोदी व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी टीचिंग या फॉरवर्ड के माध्यम से कृपया पद्म पुरस्कारों का 2014 से पहले का इतिहास पढ़ें या अपडेट करें।”

जिटेन@Jitenitis नाम के एक अन्य यूजर ने लिखा, “@anandmahindra आप समान रूप से पुरस्कार के पात्र हैं, सर। जमीनी स्तर के कार्यकर्ताओं के अलावा समाज को आप जैसे उद्योगपतियों, रोजगार सृजनकर्ताओं और धन सृजनकर्ताओं की भी आवश्यकता होती है।”

एरोडायनामाइट@bade_bhiya ने कहा, “@anandmahindra अरे नहीं सर.. आप पूरी तरह से इसके लायक हैं..। बस आपसे अनुरोध है कि आप अपनी परोपकारी गतिविधियों को जारी रखें और मुख्य रूप से ग्रामीणों, आदिवासियों और समाज के सीमांत वर्गों के विकास के लिए देखें। उनकी जरा सी मदद भी उनकी जिंदगी बदल सकती है..मुझे विश्वास है कि आप करेंगे।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
क्लोजर रिपोर्ट पर सफाई के लिए सीबीआइ ने मांगी मोहलतCoal Scam, Coal, Coalgate, CBI, Report, National News
अपडेट