ताज़ा खबर
 

भारत में सिर्फ 16 दिन में ही कोरोना के दस लाख मामले सामने आए, अमेरिका और ब्राजील से भी तेज रफ्तार में फैल रहा संक्रमण

भारत में कोरोना के करीब 30 लाख केस हैं, इनमें एक्टिव केसों की संख्या 7 लाख के करीब है, जबकि 22 लाख से ज्यादा रिकवर हो चुके हैं।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: August 22, 2020 12:01 PM
coronaviurs bihar jharkhandभारत में कोरोना के कुल मरीजों की संख्या 30 लाख के करीब पहुंच चुकी है। (रॉयटर्स)

भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के केस तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रविवार तक देश में कुल पीड़ितों की संख्या 30 लाख के पार हो जाएगी। इसी के साथ अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत इस आंकड़े तक पहुंचने वाला तीसरा देश बन जाएगा। हालांकि, अगर तीनों देशों के बीच कोरोना के बढ़ते केसों की तुलना की जाए, तो सामने आता है कि जहां अमेरिका और ब्राजील में कोरोना की रफ्तार धीमी पड़ रही है, वहीं भारत में अभी इस पर कोई रोक नहीं है। चौंकाने वाली बात यह है कि भारत में पिछले 10 लाख केस महज 16 दिन के अंदर ही आए हैं।

बता दें कि ब्राजील में कोरोना केसों के 20 से 30 लाख तक पहुंचने में 23 दिन का समय लगा था, जबकि अमेरिका में यह अवधि 28 दिन की रही थी। यानी दोनों देशों के मुकाबले भारत में संक्रमण की रफ्तार काफी तेज है। इसमें एक गौर करने वाली बात यह है कि बाकी दोनों देशों की तुलना में भारत में संक्रमितों का आंकड़ा 10 लाख तक पहुंचने का समय सबसे लंबा- 138 दिन का था, जबकि अमेरिका में इतने केस 98 दिन और ब्राजील में 114 दिन में मिले थे।

लेकिन इसके बाद से ही भारत में सबसे तेजी से केस बढ़ हैं। 10 लाख से 20 लाख केस होने में भी भारत में सिर्फ 21 दिन ही लगे थे, जबकि अमेरिका में इसके लिए 43 दिन और ब्राजील में 27 दिन लगे। गौरतलब है कि भारत में पिछले कुछ दिनों में टेस्टिंग की रफ्तार भी तेजी से बढ़ी है। ऐसे में अगले 10 लाख केसों के दौरान संक्रमण की रफ्तार पर नजर रखना जरूरी होगा। बता दें कि अमेरिका में केसों की संख्या 30 लाख से 40 लाख पहुंचने में 15 दिन लगे। वहीं 40 से 50 लाख पहुंचने में 17 दिन।

दूसरी तरफ अगर मौतों की बात की जाए, तो भारत का रिकॉर्ड इन दोनों देशों से काफी बेहतर है। अमेरिका में जब 30 लाख केस थे, तब तक कोरोना से 1 लाख 30 हजार लोगों की मौत हो चुकी थी। वहीं, ब्राजील में भी 1 लाख से ज्यादा जानें गई थीं। रिकवरी के मामले में भी भारत का रिकॉर्ड बेहतर हो रहा है। देश में एक्टिव केसों की संख्या एक दिन पहले ही 7 लाख के पार हुई है, हालांकि 6 लाख से 7 लाख तक आने में इसे 15 दिन का समय लगा है, जबकि एक्टिव केस 5 से 6 लाख पहुंचने में 9 दिन ही लगे थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चीन की एक कंपनी को छोड़ किसी विदेशी फर्म ने नहीं दी अर्जी, रेलवे ने रद्द कर दिया वंदे भारत ट्रेनें बनाने का टेंडर
2 दिल्ली में एनकाउंटर, ISIS का आतंकी IED विस्फोटक के साथ गिरफ्तार
3 रक्षा मंत्रालय ने सीएजी को अबतक नहीं दी राफेल डील की कोई जानकारी, आठ महीने बाद भी अधर में ऑडिट रिपोर्ट
अनलॉक 5.0 गाइडलाइन्स
X