scorecardresearch

“M-15 Petrol”: आईओसी लाया मेथनॉल के मिश्रण वाला पेट्रोल, ईंधन के बढ़ते दामों से दिलाएगा राहत

M15, पेट्रोल के साथ 15 प्रतिशत मेथनॉल का मिश्रण है। यह ऊर्जा आवश्यकताओं में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

“M-15 Petrol”: आईओसी लाया मेथनॉल के मिश्रण वाला पेट्रोल, ईंधन के बढ़ते दामों से दिलाएगा राहत
पेट्रोल डीजल के दाम घटे (Source- एक्सप्रेस फोटो/ प्रतिकात्मक/ निर्मल हरिंद्रन)

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन ने असम के तिनसुकिया जिले में 15 प्रतिशत मेथनॉल के मिश्रण वाले पेट्रोल ‘M15’ को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर उतारा है। पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री रामेश्वर तेली ने नीति आयोग के सदस्य वी के सारस्वत और आईओसी के चेयरमैन एस एम वैद्य की उपस्थिति में शनिवार (30 अप्रैल 2022) को ‘एम15’ पेट्रोल का पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया।

M15 पेट्रोल, पेट्रोल के साथ 15 प्रतिशत मेथनॉल का मिश्रण है। नीति आयोग की परिकल्पना के आधार पर ऊर्जा आवश्यकताओं में भारत को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में इंडियन ऑयल ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर एम15 पेट्रोल का रोलआउट शुरू किया गया है।

असम पेट्रोकेमिकल लिमिटेड करेगी उत्पादन: इस प्रोजेक्ट से जुड़े आधिकारिक बयान के मुताबिक ऊर्जा के मामले में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आईओसी कदम उठा रही है। इस पहल के लिए तिनसुकिया का चयन यहां मेथनॉल की सुगम उपलब्धता को देखते हुए किया गया। एम15 पेट्रोल का उत्पादन डिगबोई के आसपास के क्षेत्र में असम पेट्रोकेमिकल लिमिटेड करेगी। मेथनॉल का इस्तेमाल वर्तमान में चीन, जापान, इटली, स्वीडन, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, इजराइल और कई दूसरे यूरोपीय देशों में काफी किया जा रहा है। दुनिया भर में समुद्री क्षेत्र में मेथनॉल ईंधन के तौर पर काफी प्रयोग किया जा रहा है और स्वीडन जैसे देश इसके इस्तेमाल में सबसे आगे हैं।

प्रोजेक्ट के बारे में बात करते हुए पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री रामेश्वर तेली ने कहा कि मेथनॉल के मिश्रण से ईंधन की बढ़ती कीमतों से राहत मिलेगी। उन्होंने कहा, ‘‘एम15 को प्रायोगिक तौर पर जारी करना ईंधन के मामले में आत्मनिर्भर होने की दिशा में एक अहम कदम है, इससे आयात का बोझ भी घटेगा।’’

तेल की बढ़ती कीमतों से मिलेगी राहत: उन्होंने कहा कि पेट्रोलियम मंत्रालय आयात को कम करने की दिशा में काम कर रहा है और मेथनॉल के साथ ईंधन के सम्मिश्रण से तेल की बढ़ती कीमतों से राहत मिलेगी। एम 15 के उपयोग से ईंधन आयात कम होने और ईंधन आयात बिलों में अरबों डॉलर की बचत होने की उम्मीद है। आईओसी के चेयरमैन एस एम वैद्य ने इस बारे में बात करते हुए कहा, “एम15 का पायलट रोल-आउट फ्यूल इंडिपेंडेंस हासिल करने और आयात बोझ को कम करने की दिशा में एक कदम है।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 01-05-2022 at 05:04:28 pm
अपडेट