ताज़ा खबर
 

LAC विवादः तिब्बत के ऊपर से निकला भारतीय जासूसी सैटेलाइट, चीनी सेना की पोजिशन्स पर हासिल की अहम जानकारी

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) द्वारा बनाई गई यह सैटेलाइट दुश्मन के क्षेत्र में रेडियो सिग्नल्स की फ्रीक्वेंस भांपकर ही जुटा लेती है अहम जानकारी।

Spy Satellite, India, China, Tibetप्रतीकात्मक तस्वीर।

भारत और चीन के बीच लद्दाख स्थित एलएसी पर जारी तनाव के बीच दोनों देश अलग-अलग मोर्चों पर भी आपस में उलझे हैं। इनमें पूर्वोत्तर के कुछ इलाके शामिल हैं, जहां भारत ने घुसपैठ की आशंका के मद्देनजर चौकसी बढ़ा दी है। साथ ही चीनी सेना की गतिविधियों पर भी लगातार नजर जमाए हुए है। इस बीच खबर है कि भारत की डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) द्वारा संचालित खुफिया जानकारी जुटाने वाली सैटेलाइट EMISAT हाल ही में तिब्बत के ऊपर से गुजरी थी। इस दौरान इमिसैट ने पीएलए की पोजिशन्स की जानकारी हासिल कर ली।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इमिसैट सैटेलाइट में कौटिल्य शामिल है, जो कि ELINT (इलेक्ट्रॉनिक इंटेलिजेंस) पैकेज है। इसकी कई क्षमताओं में से एक यह है कि ये सैटेलाइट गुपचुप तरीके से बिना दुश्मन की समझ में आए सैन्य जरूरतों के लिए जानकारी जुटा सकता है। बताया गया है कि इस सैटेलइट ने अरुणाचल प्रदेश के करीब तिब्बत में चीनी सेना के ठिकानों की काफी ठीक ढंग से निगरानी की है।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) द्वारा तैयार की गई EMISAT सैटेलाइट रेडियो सिग्नल्स की निगरानी करती है, जिससे उसे दुश्मन के क्षेत्र में सभी तरह के ट्रांसमिशन और अहम जगहों की जानकारी मिलती है। बता दें कि भारतीय जासूसी सैटेलाइट तिब्बत के ऊपर से ऐसे समय में गुजरी है, जब चीन ने लद्दाख में पैंगोंग सो पर फिंगर-4 इलाके से में निर्माण कार्यों को लेकर भारत से चर्चा की है। सूत्रों के मुताबिक, चीनी सेना को हाल ही में डेपसांग सेक्टर में भी सेना को इकट्ठा करते पाया गया है। ऐसे में भारत अब चीन की पोजिशन्स को जानने में जुटा है।

बता दें कि शुक्रवार को ही भारत की रडार रिकॉनेसां सैटेलाइट RISAT-2BR1 हॉर्न ऑफ अफ्रीका में मौजूद देश जिबूती के ऊपरसे गुजरा था। जिबूती में चीनी सेना का पहला अंतरराष्ट्रीय सैन्य ठिकाना है। हाल ही में यहां पर चीन के तीन युद्धपोत देखे गए थे। इससे पहले 11 जुलाई को भी एमिसेट पाकिस्तान के जिन्ना नेवल बेस के ऊपर से गुजरा था। इस बेस में सबमरीन को डॉक करने की व्यवस्था है। पिछले कुछ समय में चीन की सबमरीन भी इस पोर्ट में आई हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘पेड़ से बांध करते थे पिटाई, कहते थे- कबूल लो इस्लाम’, तालिबानियों के चंगुल से बचाकर भारत लाए गए अफगान सिख निदान सिंह की आपबीती
2 Rajyasabha Elections: कांग्रेस ने भाजपा के पक्ष में वोटिंग करने पर मणिपुर के 2 MLA को थमाया नोटिस
3 ‘बकरी भी खाएंगे, कागज नहीं दिखाएंगे’, कांग्रेस नेता ने ट्विटर पर लिखा तो लोगों ने कर दिया ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X