ताज़ा खबर
 

Indian Railways: कोहरे के बावजूद अब लेट नहीं होगी ट्रेन! जानें क्या है तैयारी

Indian Railways: कोहरे वाले समय के दौरान लोको पायलट्स को सिग्नल इंडिकेशन बुकलेट और कांउसलिंग भी मुहैया कराई जाएगी।

Indian Railways, Indian Railways Train Late, Indian Railways Foggy Season Plan, Fog, Foggy Season, Railway Plan, Trains, Late, Time, Reach, Destination, GPS Equipment, Alert, Fog Safety Device, Loco Pilot, Guards, Detonater, National News, Hindi Newsतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस फोटो)

सर्दियों में कोहरे के बावजूद ट्रेनें लेट नहीं होंगी। भारतीय रेल के उत्तरी जोन ने इसके लिए खास तैयारी कर ली है। सुरक्षा और समयनिष्ठा के लिहाज से ट्रेनों में 2,648 फॉग सेफ्टी डिवाइस लगाई जाएंगी। यह ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीसी) आधारित इक्विपमेंट होता है, जो कि लोको पायलटों को आगामी सिग्नलों के पास कोहरे को लेकर पूर्व सूचना देता है। ट्रेनों को संचालन समय पर हो, इसके लिए ये डिवाइस रेलवे के कुछ अन्य जोन्स पर भी मुहैया कराई गई है। न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पूर्वी मध्य जोन रेलवे को 877, उत्तरी मध्य रेलवे को 537, उत्तर पूर्वी रेलवे को 975, उत्तर पूर्वी फ्रंटियर रेलवे व उत्तर पश्चिमी रेलवे को ऐसी 802 डिवाइस उपलब्ध कराई गई हैं।

रेलवे के एक जोन में जीएम टीपी सिंह के हवाले से रिपोर्ट में बताया गया कि ये फॉग सेफ्टी डिवाइस सभी मेल/एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों को मुहैया कराई जाएंगी। महीने के अंत तक 600 ऐसी और डिवाइसें मंगाई जाएंगी, जबकि 5400 के लिए ऑर्डर दिए जा चुके हैं और वे आगामी तीन महीनों में रेलवे को मिल जाएंगी। कोहरे के दौरान इनकी मदद से न सिर्फ सुरक्षित यात्रा होगी, बल्कि ट्रेनों का आवागमन भी सही समय पर हो सकेगा।

कोहरे के दौरान भारतीय रेल इसके अलावा जगह-जगह फॉगमैन की तैनाती करेगा, जो रेल ट्रैक पर डेटोनेटर (विस्फोटक) लगाएंगे। ट्रेन जब इन विस्फोटकों के ऊपर से गुजरेगी, तो वहां हल्का सा धमाका होगा और आवाज आएगी, जिससे लोको पायलट आगे के हालात के बारे में सचेत हो जाएगा। उस दौरान ऑटोमैटिक सिगनलिंग सिस्टम भी सेमी ऑटोमैटिक सिग्नल सिस्टम में तब्दील हो जाएगी। वहीं, स्टेशन स्टाफ को भी वॉकी-टॉकी सेट मुहैया कराए जाएंगे।

इतना ही नहीं, कोहरे वाले समय के दौरान लोको पायलट्स को सिग्नल इंडिकेशन बुकलेट और कांउसलिंग भी मुहैया कराई जाएगी। लोको पायलट्स और गार्ड्स को इस संबंध में ट्रेनिंग भी मिलेगी। इससे पहले, रेलवे ने 2017 में ऑटो एसएमएस सेवा शुरू (दिल्ली डिविजन में) की थी। बताया जा रहा है कि वह सेवा इस साल भी इस्तेमाल में लाई जाएगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Horlics: ब्रिटिश सेना के जरिए भारत पहुंचा था हॉर्लिक्स, पढ़ें अमेरिका में शुरू हुई 140 साल पुरानी कंपनी का दिलचस्प इतिहास
2 Indian Railways: नई दिल्ली-वाराणसी रूट पर चलेगी ट्रेन-18, देश की सबसे तेज रेलगाड़ी
3 4 दिसंबर: आज ही लगी थी सती प्रथा पर रोक, बाजीराव बने थे दूसरे पेशवा
आज का राशिफल
X