ताज़ा खबर
 

लॉकडाउन में चलीं 4611 ट्रेनें, 63.07 लाख लोग पहुंचे घर, पर 110 श्रमिकों ने रेलवे परिसर में ही तोड़ दिए दम, सरकारी डेटा से खुलासा

भारत सरकार ने प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए 1 मई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन सेवा शुरू की थी।

indian railways, indian railways train, indian railways ticket booking, indian railways ticket booking, indian railways news, indian railways latest news, irctc news, railway train start news, special train, irctc, special train in lockdown, irctc special train, irctc special train list, special train ticket booking, irctc refund rules, irctc refund rules 2020, irctc refund policy, irctc refund policy 2020, irctc ticket cancellation policy, irctc ticket cancellation chargesगृह राज्य जाने के लिए ट्रेन के बाहर लाइन में खड़े मजदूर। (फाइल फोटो)

भारत सरकार ने देश में कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच मार्च में ही लॉकडाउन का ऐलान कर दिया था। इसका सबसे बुरा असर प्रवासी मजदूरों पर पड़ा। बड़ी संख्या में यह वर्ग पैदल ही घरों को निकल गया। हालांकि, बाद में 1 मई से केंद्र सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाया। सरकारी डेटा के मुताबिक, लॉकडाउन के दौरान देश में 4611 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें चलीं। इसके जरिए 63 लाख 7 हजार लोग अपने घरों को भेजे गए। हालांकि सूत्रों के मुताबिक, इस दौरान 110 प्रवासियों की रेलवे परिसर में ही मौत हो गई।

राज्यों से मिले डेटा के मुताबिक, रेलवे परिसर में हुई 110 मौतों में कई के कारण अलग-अलग रहे। इनमें कुछ मौतें कोरोनावायरस और कुछ पहले की बीमारियों की वजह से हुई। सूत्रों का कहना है कि कुछ मौतों का आंकड़ा नहीं जोड़ा गया है, क्योंकि उनका शव रेलवे ट्रैक्स पर मिला था, जिसका मतलब है कि उन पर ट्रेन चढ़ गई थी।

केंद्र सरकार ने अब तक सुप्रीम कोर्ट समेत कई आधिकारिक फोरम पर कहा है कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में प्रवासी मजदूरों की मौत को रेलवे परिसर में खाने और पानी की कमी से नहीं जोड़ा जा सकता, क्योंकि इन ट्रेनों में खाना और पानी दोनों ही मुफ्त मुहैया कराए।

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के संचालन के दौरान हुई मौतों को परिप्रेक्ष्य में रखा जाए, तो सूत्रों ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि 2019 से हर दिन औसतन 75 लोगों की रेलवे परिसर में मौत हुई थी। इनमें रेलवे ट्रैक को पार करने की दौरान ट्रेन की चपेट में आए लोगों और प्राकृतिक कारणों से मरने वाले लोगों को भी शामिल किया जाता है। इसके अलावा ट्रेन से गिरकर हुई मौतों और ट्रैक पर लगे खंभों से टकराकर हुई मौतों भी इसमें जोड़ी गई हैं। यह डेटा आमतौर पर राज्य की रेलवे पुलिस द्वारा जुटाया जाता है। हालांकि, 2019 में ट्रेन एक्सिडेंट से एक भी मौत नहीं हुई।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चीन ने गोर्गा पोस्ट समेत तीन प्वाइंट से 2 किमी पीछे हटाई सेना, पर पैंगोंग पर गड़ा रखी है नजर, फिंगर 4 पर अभी भी बड़ी संख्या में चीनी सैनिक तैनात
2 10 जुलाई का इतिहासः आज ही के दिन पाकिस्तान ने बांग्लादेश को स्वतंत्र राष्ट्र स्वीकार किया
3 कोरोनाः 24 घंटे में संक्रमण के मामलों में रेकॉर्ड 24,879 बढ़ोतरी
ये पढ़ा क्या?
X