ताज़ा खबर
 

Indian Railways के निजीकरण पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने दिया यह बयान

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भारतीय रेलवे हमेशा से भारत और भारत के लोगों की संपत्ति है और इसका निजीकरण नहीं होगा।

Author November 23, 2019 12:49 PM
रेल मंत्री पीयूष गोयल। (फाइल फोटो सोर्स: PTI)

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को राज्यसभा में कहा कि सरकार भारतीय रेलवे का निजीकरण नहीं कर रही है, बल्कि यात्रियों को अच्छी सुविधा के लिए प्राइवेट प्लेयरों की आउटसोर्सिंग कर रही है। प्रश्नकाल के दौरान सवालों का जवाब देते हुए गोयल ने कहा, “हमारा उद्देश्य बेहतर सेवा और लाभ मुहैया कराना है, न कि भारतीय रेलवे का निजीकरण करना। भारतीय रेलवे हमेशा से भारत और भारत के लोगों की संपत्ति है।

पीयूष गोयल ने बताया कि अगले 12 सालों में रेलवे को 50 लाख करोड़ रुपये की जरूर है और इसे भारतीय रेलवे अपने दम पर पूरा नहीं कर सकता। रेल मंत्री ने बजट संबंधी रुकावटों और अन्य चुनौतियों की ओर इशारा करते हुए कहा, “सदस्यगण हर दिन नई लाइनों और बेहतर सेवाओं की मांग के साथ आते हैं। अगले 12 सालों के लिए 50 लाख करोड़ रुपये का बंदोबस्त करना भारत सरकार के लिए संभव नहीं है। हम सभी जानते हैं।”

हजारों ने नई ट्रेनें और अन्य सुवाधाओं का ख्याल रखते हुए गोयल ने कहा, ” अगर प्राइवेट प्लेयर निवेश करते हैं और वर्तमान व्यवस्था के तहत काम करते हैं तो इससे यात्रियों को ही आखिरकार लाभ मिलेगा।” गोयल ने साफ किया कि भारतीय रेलवे का स्वामित्व हमेशा कायम रहेगा। इस बीच, रेल राज्य मंत्री सुरेश अंगदी ने कहा कि सरकार रेलवे को कॉरपोरेट में बदल रही है, न कि उसका निजीकरण कर रही है। उन्होंने बताया, ” हम सिर्फ कमर्शल और ऑन-बोर्ड सेवाओं की आउटसोर्सिंग कर रहे हैं…हम सिर्फ लाइसेंस दे रहे हैं।

रेल मंत्रालय ने यह भी साफ किया कि निजी क्षेत्र की भागीदारी से रेलवे के मौजूदा कर्मचारियों की सेवाओं पर किसी भी तरह का प्रभाव नहीं पड़ेगा।

Next Stories
1 ‘BJP ने ली लोकतंत्र की सुपारी, Amit Shah के ‘हिटमैन’ साबित हुए राज्यपाल’; महाराष्ट्र की राजनीति पर यूं भड़की कांग्रेस
2 Electoral Bonds पर सरकार ने पीछे खींचे कदम, राजनीतिक दलों और आम लोगों की अब नहीं ली जाएगी राय
3 अब AIIMS की फीस बढ़ाने की तैयारी! केंद्र सरकार ने दिया यह निर्देश
ये पढ़ा क्या?
X