ताज़ा खबर
 

Amarnath Yatra: बाबा बर्फानी के दर्शन करने जा रहे भक्तों के लिए Indian Railways लाया ‘नई ट्रेन’, जानें डिटेल्स

Indian Railway's Special Train for Amarnath Yatra 2019: रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि रेलवे अमरनाथ श्रद्धालुओं के प्रति समर्पित है, इसलिए वह यह खास ट्रेन लेकर आया है।

Author नई दिल्ली | June 26, 2019 8:54 PM
Indian Railway’s Special Train for Amarnath Yatra 2019: 1 जुलाई, 2019 से अमरनाथ यात्रा शुरू होगी। (फाइल फोटो)

Indian Railway’s Special Train for Amarnath Yatra 2019: अमरनाथ यात्रा 2019 को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेल ने सराहनीय कदम उठाया है। बाबा बर्फानी के दर्शन को जाने वाले भक्तों के लिए रेलवे ने हाल ही में विशेष ट्रेन चलाई है। यह ट्रेन दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन से जम्मू-कश्मीर के उधमपुर स्टेशन के बीच दौड़ेगी।

दरअसल, अमरनाथ यात्रा के दौरान हर साल यात्रियों को रेल से जम्मू-कश्मीर पहुंचने में भीड़, अव्यवस्था और अन्य दिक्कतों का सामना करना पड़ता था। यात्रियों को इन चीजों का सामना इस बार न करना पड़े, लिहाजा मोदी सरकार और रेलवे ने मिलकर इस पावन यात्रा पर जाने वालों को यह ट्रेन समर्पित की है।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि रेलवे अमरनाथ श्रद्धालुओं के प्रति समर्पित है, इसलिए वह यह खास ट्रेन लेकर आया है। गोयल ने इस बाबत ट्वीट किया, “श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए समर्पित रेलवे: बाबा अमरनाथ के दर्शन को जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए रेलवे विशेष ट्रेन चलाने जा रहा है। यह आनंदविहार, दिल्ली से उधमपुर, जम्मू कश्मीर तक सप्ताह में दो बार चलेगी, इससे भगवान शिव के दर्शन की इच्छा रखने वाले श्रद्धालुओं को लाभ होगा।”

कब से शुरू होगी सेवा?: 1 जुलाई 2019 से। अमरनाथ यात्रा भी इसी तारीख से शुरू हो रही है।

किस-किस दिन चलेगी चलेगी ट्रेन?: ये स्पेशल ट्रेन सप्ताह में दो बार चलेगी। आनंद विहार से सोमवार और गुरुवार को, जबकि उधमपुर से मंगलवार और शुक्रवार को।

ये होगा रूटः आनंद विहार (दिल्ली) से गाजियाबाद, मेरठ, अंबाला कैंट, लुधियाना, जम्मूतवी, उधरमपुर (जम्मू-कश्मीर)

यात्रा से पहले जम्मू रेलवे स्टेशन पर सुरक्षा बंदोबस्त कड़े कर दिए गए हैं। पुलिस के मुताबिक, ऐहतियात बरतते हुए आने वाली और वहां से जाने वाली सभी ट्रेनों की अच्छे से चेकिंग की जाएगी, जबकि यात्रियों के लगेज की तलाशी भी ली जाएगी। 46 दिन चलने वाले इस यात्रा की शुरुआत 1 जुलाई को होगी, जबकि इसका समापन 15 अगस्त को रक्षाबंधन वाले दिन होगा। यात्रा के लिए दो रूट तय किए गए हैं, जिनमें अनंतनाग जिले का पहलगाम ट्रैक और गंदरबाल जिले में बालटाल ट्रैक (छोटा रूट) शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App