ताज़ा खबर
 

जल्द शुरू होने वाली तेजस एक्सप्रेस में मिलेगा सेलिब्रिटी शेफ का बना खाना, हर सीट पर टीवी, चाय-कॉफी मशीन और वाई-फाई से लैस

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि तेजस चूंकि एक नयी प्रीमियर क्लास ट्रेन है, इसमें चाय, कॉफी वेडिंग मशीन, पत्रिका, स्नैक्स टेबल सहित कई सुविधाएं होंगी।

Author नई दिल्ली। | April 30, 2017 4:47 PM
तेजस के कोच के हर सीट पर लगा होगी एलसीडी स्क्रीन। (PTI Photo)

रेलगाड़ी से सफर करने वाले यात्रियों को अब अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस ट्रेन का मजा मिलेगा। इंडियन रेलवे प्रीमियम ट्रेन चलाने वाला है। इस ट्रेन में यात्रियों को कई तरह की सुविधाएं मिलेंगी। मुंबई और गोवा के बीच सफर कर रहे ट्रेन यात्री जल्दी ही सेलिब्रिटी शेफ द्वारा तैयार मेन्यू का खाना, चाय एवं कॉफी वेडिंग मशीन और हर सीट के साथ एलसीडी स्क्रीन जैसी सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। जून में इस रेल मार्ग पर अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस एक नयी प्रीमियर ट्रेन सेवा शुरू की जाएगी। 20 डिब्बों वाले तेजस एक्सप्रेस में स्वचालित दरवाजे (ऑटोमैटिक डोर) और पूरी तरह बंद गैंगवे (डिब्बों को जोड़ने वाला रास्ता) होंगे। यह भारतीय रेलवे की इस तरह की पहली ट्रेन होगी। इस समय स्वचालित दरवाजे केवल मेट्रो में ही हैं। मुंबई-गोवा मार्ग पर शुरू होने के बाद यह ट्रेन सेवा दिल्ली-चंडीगढ़ मार्ग पर भी शुरू की जा सकती है।

रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि तेजस चूंकि एक नयी प्रीमियर क्लास ट्रेन है, इसमें चाय, कॉफी वेडिंग मशीन, पत्रिका, स्नैक्स टेबल सहित कई सुविधाएं होंगी। इसके अलावा टेन में बायो वैकम शौचालयों, टॉयलेट इंगेजमेंट बोर्ड, हैंड ड्रायर, सेंसराइज्ड टैप, वाई फाई सहित कई विशिष्ट सुविधाएं भी होंगी। अधिकारी ने कहा कि मनोरंजन के उद्देश्य से लगायी जाने वाली एलसीडी स्क्रीन का इस्तेमाल यात्रियों से संबंधित सूचना एवं सुरक्षा निर्देशों के प्रसार के लिए भी किया जाएगा। राजधानी और शताब्दी ट्रेनों की तरह ही कैटरिंग सेवा तेजस के किराये में शामिल होगी। इसमें एक्जिक्यूटिव क्लास एवं चेयर कार डिब्बे लगे होंगे।

आग लगी तो रुक जाएगी ये ट्रेन
इससे पहले खबर आई थी कि इंडियन रेलवे, राजधानी एक्सप्रेस और आगामी तेजस एक्सप्रेस जैसी प्रमुख ट्रेनों में एक आधुनिक, उच्च स्तरीय अग्नि सूचना व प्रतिक्रिया प्रणाली लगाएगा। इसके लग जाने के बाद यदि ट्रेन में आग से जुड़ी कोई दुर्घटना होती है तो एक तय स्तर से ज्यादा धुंआ उठने पर ब्रेक अपने आप लग जाएंगे और ट्रेन स्वत: रुक जाएगी। इसके बाद प्रभावित डिब्बे में घोषणा हो जाएगी और हूटर बजने लगेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App