ताज़ा खबर
 

Indian Railways: इस रूट की ट्रेनों में नहीं कर सकेंगे चेन पुलिंग, डिवाइस हटाने जा रहा रेलवे

रेलवे ने बिहार रूट की कुछ ट्रेनों में इमरजेंसी ट्रेन चेन पुलिंग सिस्टम खत्म करने का प्रस्ताव किया है। रेलवे की तरफ से यह कदम बिहार में चुनाव के दौरान होने वाली शराब तस्करी के मद्देनजर उठाया गया है।

Indian Railway, chain pulling, emergency, liquor, smuggling, Bihar, RPF, train, election, Hindi news, news in Hindi, latest news, today news in Hindiचेन पुलिंग कर शराब तस्करी के सबसे अधिक मामले नागपुर और बिहार में सामने आए हैं। (फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

रेलवे ने बिहार रूट की ट्रेनों में चेन पुलिंग सिस्टम खत्म कर सकता है। रेलवे की तरफ से यह निर्णय आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर शराब की तस्करी रोकने के लिए उठाया जाएगा। यह जानकारी इस मामले से जुड़े दो अधिकारियों ने दी। ट्रेनों में चेन पुलिंग सिस्टम इमरजेंसी की स्थिति में ट्रेन को रोकने के लिए प्रयोग किया जाता है जबकि कई बार निर्धारित स्टेशन नहीं होने के बावजूद चेन खींच कर ट्रेन को रोक दिया जाता है। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार आरपीएफ के डीजी अरुण कुमार ने कहा कि आरपीएफ ने नोटिस किया है कि बिहार में तस्कर चेन पुलिंग से ट्रेन को रोक कर अपनी मनपसंद जगह पर शराब लेकर उतर जाते हैं। चुनाव के समय भारत के विभिन्न हिस्सों में शराब का प्रयोग मतदाताओं को लुभाने के लिए किया जाता है।

कुमार ने कहा, चूंकि बिहार एक शराब मुक्त राज्य है, चेन पुलिंस सिस्टम के बंद करने का प्रस्ताव किया गया है। अब प्रतिबंध लागू होने के कारण हम एक बार फिर इस डिवाइस को खत्म करने पर विचार कर रहे हैं। आरपीएफ के डीजी ने हालांकि किसी ट्रेन विशेष का नाम बताने से इनकार कर दिया। कुमार ने कहा कि इमरजेंसी के लिए आरपीएफ के गार्ड ट्रेन में मौजूद रहेंगे।

यात्री इन लोगों से संपर्क कर सकते हैं। आरपीएफ अधिकारी के अनुसार पिछले सप्ताह चेन पुलिंग के जरिये शराब तस्करी के 31 मामले सामने आए हैं। इनमें से अधिकतर मामले नागपुर और बिहार के कुछ हिस्सों जिनमें छपरा, पटना शामिल है, में आए हैं। उत्तर प्रदेश (80 सीट), महाराष्ट्र (48) और पश्चिम बंगाल (42) के बाद बिहार में सबसे अधिक 40 लोकसभा सीटें हैं।

बिहार को साल 2016 में शराब मुक्त राज्य घोषित किया जा चुका है। इन राज्यों में 11 अप्रैल से सात चरणों में चुनाव होना है। चुनाव के दिन या इससे 48 घंटे पूर्व शराब परोसने या बांटना निर्वाचन से जुड़ा अपराध है। वहीं बिहार में शराबबंदी का उल्लंघन करने पर पांच साल की कैद है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Hindi News, 23 March 2019: 5वीं सूची में BJP ने झारखंड, गुजरात और हिमाचल प्रदेश में बड़े पैमाने पर टिकट काटे; देखें लिस्ट
2 भारत दुनिया के 27 फीसद टीबी रोगियों का घर
3 CBDT ने बयान जारी कर ‘येदुरप्पा डायरी’ के पन्नों को बताया संदिग्ध, बढ़ सकती हैं भाजपा की मुश्किलें
IPL 2020: LIVE
X