Indian Railway IRCTC: साइक्लोन ‘जवाद’ ने रोका रास्ता, दक्षिण पूर्व रेलवे ने 3 दिसंबर की कई ट्रेनों को किया रद्द, चेक करें लिस्ट

Indian Railway IRCTC : चक्रवात जवाद के कारण दक्षिण पूर्व रेलवे ने रई ट्रेनों को रद्द कर दिया है। DRM खड़गपुर द्वारा साझा जानकारी के अनुसार 3 दिसंबर को 18 ट्रेनों को निलंबित किया गया है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक प्रस्तुतीकरण के लिए किया गया है (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

Indian Railway IRCTC : चक्रवात जवाद के कारण दक्षिण पूर्व रेलवे ने रई ट्रेनों को रद्द कर दिया है। DRM खड़गपुर द्वारा साझा जानकारी के अनुसार 3 दिसंबर को 18 ट्रेनों को निलंबित किया गया है। जिसमें हावड़ा सिकंदराबाद (12703), पुरी यशवंतपुर (22883), हावड़ा यशवंतपुर (12245), पुरुलिया वील्लुपुरम (22605), हावड़ा हैदराबाद (18045), हावड़ा चेन्नई सेंट्रल (12841), हावड़ा मैसूर (22817) और संत्रागाची से चेन्नई सेंट्रल (22807) शामिल हैं।

वहीं इसके अलावा दीघा- विशाखापट्नम (22873), हावड़ा-यशवंतपुर (12863), हावड़ा-चेन्नई सेंट्रल (12839), पटना एनरकुलम (22644), हावड़ा- पुरी (18409), सियालदाह-पुरी (22201), हावड़ा पुरी (12895), हावड़ा पुरी (12837), अनंत विहार-पुरी (12876) और हावड़ा पुरी (12821) भी जवाद चक्रवात के चलते कैंसिल कर दी गई है।

प्रधानमंत्री ने लिया तैयारियों का जायजा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बंगाल की खाड़ी में आसन्न चक्रवात ‘जवाद’ से निपटने की राज्यों, केंद्र सरकार के मंत्रालयों और संबंधित एजेंसियों की तैयारियों की बृहस्पतिवार को एक उच्च स्तरीय बैठक में समीक्षा की और अधिकारियों को जान व माल की सुरक्षा सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

पीएमओ के मुताबिक प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को लोगों को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाने के लिए हरसंभव कदम उठाने, बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य और पेयजल जैसी आवश्यक सेवाओं का रखरखाव सुनिश्चित करने व इनमें किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न होने पर उन्हें तत्काल बहाल करने का निर्देश दिया।

प्रधानमंत्री ने दवाओं की पर्याप्त उपलब्धता और उनकी आपूर्ति सुनिश्चित करने और निर्बाध आवागमन सुनिश्चित करने के साथ ही चौबीसों घंटे काम करने वाले कंट्रोल रूम स्थापित करने का निर्देश दिया। बैठक में प्रधानमंत्री के समक्ष चक्रवात की वर्तमान स्थिति और इसके संभावित असर के बारे में एक प्रस्तुति के जरिए जानकारी दी गई।भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव के क्षेत्र में चक्रवात जवाद के जोर पकड़ने की उम्मीद है और चार दिसंबर की सुबह हवा की गति अधिकतम 100 किमी प्रति घंटा के साथ इसके आंध्र प्रदेश-ओडिशा के उत्तर तट तक पहुंचने की उम्मीद है।

किन राज्यों पर दिखेगा असर: इससे आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में भारी वर्षा होने की संभावना है। आईएमडी सभी संबंधित राज्यों को नवीनतम पूर्वानुमान के साथ नियमित बुलेटिन जारी करता है। कैबिनेट सचिव पहले ही सभी तटीय राज्यों और संबंधित केंद्रीय मंत्रालयों के मुख्य सचिवों तथा संबंधित केंद्रीय एजेंसियों के साथ स्थिति एवं तैयारियों की समीक्षा कर चुके हैं। पीएमओ ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय चौबीसों घंटे स्थिति की समीक्षा कर रहा है और राज्य सरकारों व केंद्र शासित प्रदेशों और संबंधित केंद्रीय एजेंसियों के संपर्क में है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट