ताज़ा खबर
 

भारतीय नौसैना पहली बार वॉरशिप पर महिला ऑफिसर्स की करेगी तैनाती, जानें कौन हैं ये महिला अधिकारी

रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि दोनों महिला अधिकारी नौसेना के 17 अधिकारियों के समूह का हिस्सा हैं जिन्हें आईएनएस गरुड़ पर आज हुए समारोह में ‘ऑब्जर्वर’ के तौर पर पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद ‘विंग’ से सम्मानित किया गया

Indian Navy, Gender Equality, first women officer,सब लेफ्टिनेंट कुमुदनी त्यागी (दाएं) और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह (बाएं)। (फोटोः पीटीआई)

नौसेना के हेलीकॉप्टर बेड़े में पहली बार दो महिला अधिकारियों को ‘ऑब्जर्वर’ (हवाई रणनीतिकार) के तौर पर चुना गया है जिससे अंतत: महिलाओं के अग्रिम मोर्चों पर मौजूद युद्धपोतों पर तैनाती का रास्ता साफ होगा। सब लेफ्टिनेंट कुमुदिनी त्यागी और सब लेफ्टिनेंट रीति सिंह, भारत में पहली प्रभावी हवाई रणनीतिकार हैं, जो युद्धपोत से हेलीकॉप्टर का परिचालन करेंगी।

इससे पहले महिलाओं का प्रवेश केवल जमीनी ठिकाने से उड़ान भरने वाले विमानों तक ही सीमित था। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि दोनों महिला अधिकारी नौसेना के 17 अधिकारियों के समूह का हिस्सा हैं जिन्हें आईएनएस गरुड़ पर आज हुए समारोह में ‘ऑब्जर्वर’ के तौर पर पाठ्यक्रम पूरा करने के बाद ‘विंग’ से सम्मानित किया गया। इस समूह में नौसेना की कुल चार महिला अधिकारी और भारतीय तटरक्षक बल के तीन अधिकारी शामिल हैं।

मंत्रालय ने बताया कि समूह में 13 अधिकारी नियमित बैच के थे जबकि चार महिला अधिकारी शॉर्ट सर्विस कमीशन बैच की थीं। इस बारे में एनडीटीवी से बातचीत में रीति सिंह ने कहा कि भारतीय नौसेना में हर दिन चीजें बदल रही हैं। नौसेना हर दिन हर किसी को एक मौका दे रही है। हम हर दिन बाधाओं को तोड़ रहे हैं लेकिन हर दिन बहुत सारे अवसर आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भारतीय नौसेना हमें जो भी भूमिका देती है, हम ख़ुशी से निभाएंगे। रीति सिंह के पिता भी नौसेना में थे। वह अपने परिवार की चौथी पीढ़ी हैं जो नौसेना में सेवा दे रही हैं। उनके पिता कई साल पहले नौसेना से रिटायर हो चुके हैं। वहीं, दिल्ली के पास गाजियाबाद की रहने वाली सब लेफ्टिनेंट कुमुदनी त्यागी ने कहा कि हमारे साथ समान रूप से व्यवहार किया गया है … हमारे पुरुष समकक्षों ने जो भी ट्रेनिंग हासिल की हम भी उसी ट्रेनिंग से गुजरे … यह एक बड़ी जिम्मेदारी है, ये काम चुनौती भरा है। हम इसके लिए तत्पर हैं।

समारोह की अध्यक्षता रियर एडमिरल एंटोनी जॉर्ज ने की, जो चीफ स्टाफ ऑफिसर (प्रशिक्षण) भी हैं। जॉर्ज ने ‘ऑब्जर्वर’ का पाठ्यक्रम पूरा करने वाले अधिकारियों को सम्मानित किया और प्रतिष्ठित विंग दिया। इसके साथ ही कार्यक्रम के मुख्य अतिथि ने छह अधिकारियों (महिला अधिकारी सहित नौसेना के पांच अधिकारी और एक तटरक्षक बल का अधिकारी) को सफलतापूर्वक योग्य नेविगेशन प्रशिक्षक पाठ्यक्रम पूरा करने पर प्रशिक्षक बैच से सम्मानित किया।

रियर एडमिरल एंटोनी ने इस तथ्य को रेखांकित किया कि यह ऐतिहासिक मौका है जब पहली बार महिलाओं को हेलीकॉप्टर का प्रशिक्षण दिया गया है जिससे अंतत: अग्रिम मोर्चों पर मौजूद युद्धपोतों पर उनकी तैनाती का रास्ता साफ होगा। बयान के मुताबिक 91 वें नियमित पाठ्यक्रम में 22वें एसएससी ‘ऑब्जर्वर’ पाठ्यक्रम में हवाई नेविगेशन, उड़ान की प्रक्रिया, हवाईयुद्ध की रणनीति, पनडुब्बी रोधी युद्ध और विमान के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों संबंधी प्रशिक्षण दिया गया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 VIDEO: ये डुगडुगी बजाने वाले बैठाते हो…शो में पैनिलस्ट के लिए बोले मौलाना, एंकर ने यूं दिया कड़ा जवाब
2 किसानों की आत्महत्या पर छिपाया जा रहा डेटा? सदन में बोले केंद्रीय मंत्री- कई राज्य और UT नहीं दे रहे आत्महत्या के आंकड़े
3 कृषि बिल विवादः क्या है MSP, जिस पर सड़क से लेकर संसद तक भरी जा रही हुंकार? समझें
यह पढ़ा क्या?
X