ताज़ा खबर
 

‘भारत के इतिहास को फिर से लिखने की जरूरत’, वित्त मंत्रालय के आर्थिक सलाहकार ने कहा- आजादी के मौजूदा इतिहास से बिल्कुल अलग है हकीकत

संजीव सान्याला ने कहा कि अगर कोई पारंपरिक या आधिकारिक इतिहास की किताबें पढ़ता है तो किसी को भी यह आभास होगा कि भारत का स्वतंत्रता संग्राम एक विशिष्ट रूप से शांतिपूर्ण था।

वित्त मंत्रालय में प्रधान आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल।

वित्त मंत्रालय में प्रधान आर्थिक सलाहकार संजीव सान्याल ने गुरुवार (23 जनवरी, 2020) को कहा कि भारतीय इतिहास को फिर से लिखने की जरुरत है। उन्होंने तर्क दिया कि इससे भारत के वास्तविक इतिहास की सराहना करने में मदद मिलेगी। FICCI में 14वां नेताजी सुभाष मेमोरियल व्याख्यान पर बोलते हुए प्रधान आर्थिक सलाहकार ने कहा, ‘भारत को अपने इतिहास को फिर से शुरू करने की जरूरत है, और भारत के स्वतंत्रता संग्राम की कहानी के साथ शुरुआत करने के लिए इससे बेहतर जगह और क्या हो सकती है।’

उन्होंने कहा कि अगर कोई पारंपरिक या आधिकारिक इतिहास की किताबें पढ़ता है तो किसी को भी यह आभास होगा कि भारत का स्वतंत्रता संग्राम एक विशिष्ट रूप से शांतिपूर्ण था। इसका मतलब है कि हमने धीरे से अंग्रेजों को सुझाव दिया कि उन्हें मुल्क छोड़ देना चाहिए और शिष्टतापूर्वक भारत छोड़कर चले गए। मगर आजादी के मौजूदा इतिहास से हकीकत बिल्कुल अलग है। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों के सशस्त्र प्रतिरोध के बारे में एक पूरी तरह से अलग ही कहानी बताई जा रही है, जो लंबे समय से चली आ रही है।

उन्होंने कहा कि इसका मतलब यह नहीं है स्वतंत्रता संग्राम में अहिंसा आंदोलन ने एक भूमिका नहीं निभाई। मगर एक सशस्त्र प्रतिरोध भी था। इसमें क्रांतिकारियों के सशस्त्र प्रयासों को नकार देना कहीं से भी ठीक नहीं है। उन्होंने 1857 के स्वतंत्रता संग्राम का जिक्र करते हुए कहा कि वे सब एक तरह से एक ही तरीके से अंग्रेजी हुकूमत के विरोध के लिए उठे थे। जिसके बाद झारखण्ड में बिरसा मुंडा और मणिपुर में 1888-89 में अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह हुआ।

इसके बाद भी आजादी के लिए कई तरह के प्रयास किए गए मगर वो बहुत ज्यादा प्रभाव नहीं छोड़ पाए मगर उन्होंने एक पैटर्न उपलब्ध कराया। लगभग इसी समय सावरकर ने बताया कि 1857 में जो तरीका अपनाया गया, भारत की आजादी के लिए वहीं सर्वक्षेष्ठ था।

इस दौरान जब सान्याल से जब पूछा गया कि वो इतिहास को दोबारा लिखे जाने पर जोर दे रहे हैं मगर पिछले करीब छह सालों से केंद्र में वही सरकार है जिसके साथ वो काम कर रहे हैं तो इतिहास का पुनर्लेखन कब होगा? उन्होंने कहा कि इतिहास लेखन बहुत विस्तृत काम है और इसे एकाएक नहीं किया जा सकता।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 केंद्रीय योजना में भ्रष्टाचार पर HRD ने उठाए सवाल, 2 करोड़ रुपये के फंड दुरुपयोग का आरोप, हाथ से बना दिए गए 1.2 करोड़ रुपये के टैक्सी के बिल
2 सैनिक बनना चाहता था 11 साल का मासूम, मां को सैल्यूट कर गया था ट्यूशन, फिर नहीं लौटा, हादसे से निकलीं दर्दनाक कहानियां
3 कर लीजिए 500 रुपए देने की कोशिश- ये तस्वीरें शेयर कर शाहीन बाग प्रदर्शन को प्रायोजित कहने वालों को जवाब दे रहे लोग
ये पढ़ा क्या?
X