ताज़ा खबर
 

आर्थिक मंदी के बीच भारत से आगे निकला बांग्लादेश और नेपाल, वर्ल्ड बैंक ने जताया तेज जीडीपी अनुमान

बांग्लादेश की वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर 2019 में 8.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। यह 2018 में 7.9 प्रतिशत की दर से अधिक है। इसके 2020 में 7.2 प्रतिशत और 2021 में 7.3 प्रतिशत पर रहने का अनुमान जताया गया है।

Author नई दिल्ली | Updated: October 13, 2019 5:27 PM
वर्ल्ड बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि बांग्लादेश और नेपाल की आर्थिक वृद्धि, भारत से ज्यादा रहेगी। (फाइल फोटो)

वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में सुस्ती के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी बुरा असर पड़ा है। जिससे 2019 में भारत की आर्थिक वृद्धि दर घटकर 6 प्रतिशत रहने का अनुमान है। इसी बीच विश्व बैंक की एक हालिया रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि साल 2019 में बांग्लादेश और नेपाल की अर्थव्यवस्थाएं भारत के मुकाबले तेजी से आगे बढ़ेंगी।

बांग्लादेश की वास्तविक जीडीपी वृद्धि दर 2019 में 8.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। यह 2018 में 7.9 प्रतिशत की दर से अधिक है। इसके 2020 में 7.2 प्रतिशत और 2021 में 7.3 प्रतिशत पर रहने का अनुमान जताया गया है। नेपाल के मामले में, जीडीपी की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष और अगले वित्त वर्ष में औसतन 6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है। हालांकि इसके बावजूद भी भारतीय अर्थव्यवस्था में अब भी व्यापक संभावनाओं के साथ तेजी से आगे बढ़ती अर्थव्यवस्था बनी हुई है।

विश्वबैंक के मुख्य अर्थशास्त्री (दक्षिण एशिया) हंस टिम्मर का कहना है कि, “हालिया सुस्ती के बावजूद भारत तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बनी हुई है। उसके आर्थिक वृद्धि के आंकड़े दुनिया के अधिकांश देशों से अधिक है। भारत अभी भी व्यापक क्षमता वाली तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है।”

दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस के ताजा संस्करण में विश्वबैंक ने चालू वित्त वर्ष में भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाकर छह प्रतिशत कर दिया। हालांकि, विश्वबैंक ने कहा कि वृद्धि दर धीरे-धीरे सुधर कर 2021 में 6.9 प्रतिशत और 2022 में 7.2 प्रतिशत पर पहुंच जाने का अनुमान है।

टिम्मर ने कहा , “हालिया वैश्विक नरमी से भारत में निवेश और खपत प्रभावित हुये हैं। इसकी वजह से उसे कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।” भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2016 में 8.2 प्रतिशत थी और अगले दो साल में यह 2.2 प्रतिशत गिर गई है।

टिम्मर ने कहा यदि आप घरेलू मांग की वृद्धि को देखते हैं तो यह जीडीपी के मुकाबले अधिक तेजी से नीचे आ रही है क्योंकि इसमें आयात भी तेजी से सुस्त पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि यह अपने आप में अलग मामला है जहां कंपनियों और घरेलू दोनों स्तरों पर निवेशक निवेश को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं।

टिम्मर ने कहा कि विश्वबैंक ने अनुमान में कहा है कि ” भारत की 80 प्रतिशत आर्थिक नरमी ” का कारण अतंरराष्ट्रीय कारक हो सकते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे विचार में यह काफी कुछ उसी के अनुरूप है जो कि दुनिया में हो रहा है। इस समय दुनिया में सब जगह निवेश की रफ्तार काफी तेजी से धीमी पड़ रही है।

बैंक ने वैश्विक सुस्ती के कारण चालू वित्त वर्ष में दक्षिण एशिया की आर्थिक वृद्धि में गिरावट का अनुमान जताया है। बैंक ने अपनी हालिया रिपोर्ट में चालू वित्त वर्ष में दक्षिण एशिया की आर्थिक वृद्धि का अनुमान घटाकर 5.9 प्रतिशत कर दिया है। यह अप्रैल 2019 के पूर्वानुमान से 1.1 प्रतिशत कम है। इसमें कहा गया है कि पाकिस्तान की आर्थिक वृद्धि दर और गिरकर महज 2.4 प्रतिशत रह सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 दलितों, किसानों पर डोरे: बिना गारंटी, बिना ब्याज 3 लाख का लोन देने का वादा, हरियाणा में बीजेपी ने जारी किया संकल्प पत्र
2 PMAY: घर खरीद पर मोदी सरकार दे रही 2.3 लाख की सब्सिडी, 31 मार्च तक है ऑफर
3 घर में ही घिरे बिहार के डिप्टी सीएम मोदी! पास-पड़ोस वालों ने किया प्रदर्शन