ताज़ा खबर
 

भारत में मंदी के संकेत, पीएम मोदी ने निर्मला सीतारमण से मिल की हालात की समीक्षा

ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि निवेश में आयी कमी अभी लंबी चलेगी और देश की अधिकतर मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां भी निकट भविष्य के लिए निराशावादी बनी हुई हैं।

Author , नई दिल्ली | Published on: August 16, 2019 9:41 AM
पीएम मोदी और निर्मला सीतारमण (express file photo)

उपभोक्ता मांग और निवेश में कमी के साथ ही देश में मंदी का संकट गहराता जा रहा है। बता दें कि जून 2019 में सरकार के पूंजीगत व्यय में करीब 30 प्रतिशत की कमी आयी है। वहीं इंडिया इंक द्वारा नए प्रोजेक्ट के ऐलान पर भी इसका असर दिखाई दे रहा है। मंदी के असर को देखते हुए गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और कई शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की।

इस बैठक में अर्थव्यवस्था में आयी इस मंदी से निपटने के उपायों पर चर्चा हुई। हालांकि ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि निवेश में आयी कमी अभी लंबी चलेगी और देश की अधिकतर मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां भी निकट भविष्य के लिए निराशावादी बनी हुई हैं। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल-जून 2019 में एक इंडस्ट्रियल आउटलुक सर्वे किया था, जिसमें शामिल 1231 मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां शामिल हुई थी।

इस सर्वे में पता चला कि देश की 31.6 प्रतिशत मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियां ही अपने ऑर्डर में वृद्धि की उम्मीद कर रहीं थी, जो कि बीते दशक में सबसे कम है। अर्थव्यवस्था का आलम ये है कि नए प्रोजेक्ट नहीं आ रहे हैं। स्टेटिक एंड प्रोग्राम इंप्लीमेंटेशन मंत्रालय के अनुसार, देश में पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप से चल रहे 65 प्रोजेक्ट में से 1 मई, 2019 तक 37 प्रोजेक्ट देरी से चल रहे हैं।

जून 2019 की तिमाही नए प्रोजेक्ट के लिहाज से सबसे खराब तिमाही में से एक रही। दरअसल नए प्रोजेक्ट की घोषणाओं में भारी कमी आयी है। CMIE के अनुमान के मुताबिक साल 2018-19 में जहां 2.7 लाख करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का ऐलान हुआ, वहीं जून 2019 की तिमाही में यह घटकर सिर्फ 71,000 करोड़ पर आ गया है।

वहीं क्षमता बढ़ाने वाले प्रोजेक्ट, जहां साल 2014-15 में 21 लाख करोड़ रुपए के थे, वहीं साल 2018-19 में यह घटकर 10.7 लाख करोड़ रह गए हैं। फ्रैक्ट्री आउटपुट ग्रोथ बीते 4 माह में घटकर 2 प्रतिशत रह गई है, जो कि बीते वित्तीय वर्ष के 7 प्रतिशत के मुकाबले कम है। इंडेक्स ऑफ इंडस्ट्रियल प्रोडक्शन के आंकड़ों के अनुसार, देश में मैन्यूफैक्चरिंग और माइनिंग सेक्टर में काफी गिरावट आयी है। बीते साल जहां इन सेक्टर्स की ग्रोथ 5.1 प्रतिशत थी, वहीं इस साल यह घटकर 3.6 प्रतिशत हो गई है।

इन सब के अलावा हवाई ट्रांसपोर्ट में भी गिरावट देखी गई है। साल 2019-20 में देश में कुल हवाई ट्रांसपोर्ट, जिसमें डोमेस्टिक और इंटरनेशनल दोनों शामिल हैं, उसमें 1 प्रतिशत से ज्यादा की गिरावट आयी है। इसी तरह समुद्र के रास्ते होने वाले व्यापार में भी कमी देखी गई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आर्टिकल 370: चीन के कहने पर “गुप्त बैठक” करेगा UN, पाकिस्तान ने की थी मांग
2 पहलू खान की बीवी बोलीं, “मैं टूट चुकी हूं, सिर्फ अदालत से थी न्याय की उम्मीद”, बेटे ने कहा- हम आगे भी लड़ेंगे
3 पीएम मोदी ने जनसंख्या पर जताई है चिंता, लेकिन इन 7 राज्यों को छोड़ देश में घट रही है प्रजनन दर