scorecardresearch

‘अर्थव्यवस्था पस्त, सरकार दिखा रही मुंगेरीलाल के हसीं सपने’, ट्वीट पर आशुतोष ट्रोल, लोग बोले- आप हैं वह मुंगेरीलाल, क्यों बन रहे हैं ज्ञानी?

आशुतोष ने लिखा कि “क्या मोदी सरकार सुन रही है? भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत खराब है और सरकार मुंगेरी लाल के हसीन सपने दिखा रही है, क्यों?”

‘अर्थव्यवस्था पस्त, सरकार दिखा रही मुंगेरीलाल के हसीं सपने’, ट्वीट पर आशुतोष ट्रोल, लोग बोले- आप हैं वह मुंगेरीलाल, क्यों बन रहे हैं ज्ञानी?
आशुतोष के ट्वीट पर यूजर्स ने उन्हें ही ट्रोल कर दिया है। (फाइल फोटो)

देश की अर्थव्यवस्था मंदी के दौर से गुजर रही है। देश में बेरोजगारी दर बढ़ी है और रोजगार के मौके भी घटे हैं। वहीं उपभोग की दर भी बीते कई दशकों में सबसे निचले स्तर पर है। वहीं दूसरी तरफ केन्द्र की मोदी सरकार अगले पांच सालों में अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य तक ले जाने की बात कर रही है। पत्रकार आशुतोष ने एक ट्वीट कर अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर केन्द्र सरकार पर हमला बोला है। आशुतोष ने लिखा कि “क्या मोदी सरकार सुन रही है? भारतीय अर्थव्यवस्था की हालत खराब है और सरकार मुंगेरी लाल के हसीन सपने दिखा रही है, क्यों?”

आशुतोष ने अपने इस ट्वीट के साथ एक खबर का लिंक भी जोड़ा है, जिसमें आरबीआई के पूर्व गवर्नर सी.रंगराजन ने कहा है कि पांच साल में 5 खरब डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य पूरा नहीं हो पाएगा। फिलहाल भारत की अर्थव्यवस्था 2.7 ट्रिलियन डॉलर है।  वहीं आशुतोष के इस ट्वीट पर लोगों ने उन्हें ही ट्रोल कर दिया है। एक यूजर ने आशुतोष को ट्रोल करते हुए लिखा कि ‘वह मुंगेरीलाल तुम ही हो।’ वहीं एक यूजर ने लिखा कि ‘अरे भाई आप क्यों ज्ञानी बन रहे हैं, नहीं करेंगे तो चुनाव में भुगतेंगे।’

बता दें कि आईबीएफ-आईसीएफएआई बिजनेस स्कूल द्वारा आयोजित एक समारोह में पूर्व आरबीआई गवर्नर ने उक्त बात कही। उन्होंने कहा कि अगले पांच वर्षों में भारतीय अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचाने के लिए हमारी विकास दर 9 प्रतिशत प्रतिवर्ष होनी चाहिए और अभी ऐसा होना बेहद मुश्किल लग रहा है। हाल ही में नेशनल स्टैटिस्टिकल ऑफिस (NSO) की रिपोर्ट की रिपोर्ट में खुलासा हुआ था कि देश में ग्रामीण इलाकों में मांग का स्तर बीते 4 दशकों में सबसे कम है। स्टेट बैंक की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, चालू वित्तीय वर्ष की दूसरी छमाही में जीडीपी की दर 4.2 प्रतिशत पर आ सकती है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट