ताज़ा खबर
 

वि‍यतनाम के सैनि‍कों को मि‍जोरम के घने जंगलों में सि‍खाए जा रहे चीन से नि‍पटने के गुर

मिजोरम के जंगलों में भारतीय सैनिकों के साथ ट्रेनिंग ले रहे ये तीनों वियतनामी सैनिक वहां की सेना के अधिकारी हैं।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

सामरिक दृष्टिकोण से भारत और वियतनाम हाल के दिनों में काफी करीब आए हैं। इस सिलसिले में दोनों देशों के बीच न केवल रक्षा और विमानन सौदे हुए हैं बल्कि सैनिकों को एक-दूसरे देश के भौगोलिक प्रदेशों में जाकर उपयुक्त प्रशिक्षण लेने और संयुक्त सैन्य अभ्यास करने जैसे महत्वपूर्ण कदम शामिल हैं। फिलहाल वियतनाम सेना के तीन सैनिक मिजोरम के घने जंगलों में वैरिंगटे शहर के पास भारत में निर्मित इन्सास राइफल लेकर आतंकियों की तलाश कर रहे हैं। ये सैनिक धीरे-धीरे अपने शिकार और लक्ष्य की ओर बढ़ते हैं, चट्टानों को पीछे से कवर करते हैं और इन्सास राइफल की सहायता से उसे आग से घेर लेते हैं ताकि कोई वहां से भाग न सके। यह एक छद्म आतंक निरोधी अभियान है जो दुनिया में कहीं भी आतंकवादियों के खिलाफ छेड़ा जा सकता है।

सेना की रणनीति के मुताबिक प्रशिक्षण के दौरान ये वियतनामी सैनिक भारतीय सेना के जंगल वारफेयर स्कूल के जंगली युद्ध श्रृंखला के निर्धारित लक्ष्य पर काम कर रहे हैं लेकिन उन्हें बीच में ही आतंकवादियों का सामना करना है। ये सैनिक भारतीय सैनिकों से अलग नहीं दिख रहे हैं। उनमें से एक वियतनामी सैनिक भारतीय सैनिक की पोशाक में है जबकि दो वियतनामी सेना के मानकों के मुताबिक जंगली आवरण वाले पोशाक में हैं।

HOT DEALS
  • Samsung Galaxy J6 2018 32GB Gold
    ₹ 13990 MRP ₹ 14990 -7%
    ₹0 Cashback
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback

एनडीटीवी के मुताबिक, मिजोरम के जंगलों में भारतीय सैनिकों के साथ ट्रेनिंग ले रहे ये तीनों वियतनामी सैनिक वहां की सेना के अधिकारी हैं। योजना के मुताबिक इस ट्रेनिंग के दौरान वो जो भी कौशल सीखेंगे उसे बाद में वहां जाकर अपने अन्य सैनिक साथियों खासकर पैदल सैनिकों को स्थानांतरित करेंगे। गौरतलब है कि वियतनामी सेना ने साल 1979 में चीन के साथ सीमा विवाद में युद्ध लड़ा था जिसमें हजारों वियतनामी सैनिकों की मौत हो गई थी। तब से हनोई और बीजिंग के रिश्ते तनावपूर्ण रहे हैं। हालांकि, आर्थिक संबंधों में काफी सुधार हुआ है।

दक्षिण चीन सागर में चीन के विस्तार के कारण वियतनाम चिंतित है। चीन और वियतनाम के आपसी रिश्तों में अविश्वास और कटुता का कड़वा अतीत रहा है। दरअसल, बीजिंग चीन सागर में स्पाटली और पेरासेल श्रृंखलाओं के द्वीपों पर कृत्रिम रीफ बना रहा है। चीन का यह एक ऐसा कदम है जिसका कई क्षेत्रीय देशों ने भी विरोध किया है। भारत ने भी इस दिशा में चीन का कड़ा विरोध किया है। बावजूद इसके चीन अपनी योजना के मुताबिक कृत्रिम रीफ बनाने की दिशा में आगे ही बढ़ता जा रहा है। इसके अलावा चीन अक्सर पाकिस्तानी सेना को सहायता पहुंचाकर भारत को अंगूठा दिखाता रहा है।

वीडियो देखिए- सीमा विवाद पर चीनी नेता ने कहा तवांग देकर सीमा विवाद सुलझा लें; भारत ने कहा मुमकिन नहीं

वीडियो देखिए- ‘अग्नि’ मिसाइल से बौखलाए चीन ने कहा- “हम कर सकते हैं पाकिस्तान की मदद”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App