ताज़ा खबर
 

करगिल युद्ध में विदेशियों ने वसूले थे मनमाने पैसे, दिए थे 1970 के हथियार, तीन साल पुरानी सैटेलाइट इमेजरी; पूर्व सेनाध्यक्ष का खुलासा

पूर्व आर्मी चीफ ने दावा किया कि दो दशक पहले हुए कारगिल युद्ध के दौरान जब हमें जरूरत थी, तब कई देशों ने भारत से सैटेलाइट इमेजेज, हथियारों और गोला-बारूद के लिए मनमाने पैसे वसूले थे।

Author Edited By नितिन गौतम नई दिल्ली | Updated: December 14, 2019 5:49 PM
कारगिल विजय की एक तस्वीर। (फाइल फोटो)

पूर्व थलसेना अध्यक्ष जनरल वीपी मलिक (रिटायर्ड) ने शुक्रवार को दावा किया कि दो दशक पहले हुए कारगिल युद्ध के दौरान जब हमें जरूरत थी, तब कई देशों ने भारत से सैटेलाइट इमेजेज, हथियारों और गोला-बारूद के लिए मनमाने पैसे वसूले थे। जनरल मलिक ने मिलिट्री लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन ‘मेक इन इंडिया एंड द नेशन्स सिक्योरिटी’ मुद्दे पर बोलते हुए उक्त खुलासा किया।

जनरल मलिक ने कहा कि “कारगिल युद्ध के दौरान, चाहे वो कोई भी देश हो, उसने हमारा उतना शोषण किया, जितना वो कर सकते थे। जब हमने एक देश से बंदूकें लेने के लिए संपर्क किया, क्योंकि इस देश ने पहले हमसे इसका वादा किया था, लेकिन बाद में उस देश ने हमें पुराने हथियार भेज दिए। जब हमने दूसरे देश के हथियार मांगे तो हमारे पास हथियारों की कमी थी, लेकिन हमें 1970 के पुराने हथियार दे दिए गए।”

बता दें कि कारगिल युद्ध के दौरान जनरल वीपी मलिक (रिटायर्ड) आर्मी चीफ थे। उन्होंने बताया कि उस वक्त हर एक सैटेलाइट इमेजेज के लिए 36 हजार रुपए देने पड़े थे, जबकि वह इमेज भी लेटेस्ट नहीं थी और तीन साल पुरानी थीं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, वीपी मलिक ने कहा कि भारतीय सेना विदेश से हथियार मंगाने की इसलिए इच्छुक रहती है क्योंकि हमारा पब्लिक सेक्टर हमारी जरूरत के हिसाब से हथियार नहीं बना पाता है,जिसके चलते हमें विदेशों का रुख करना पड़ता है।

जनरल मलिक ने चेताते हुए कहा कि जब तक हम डिफेंस के मामले में आत्मनिर्भर नहीं हो जाते, हमारे सुरक्षा बलों के लिए खतरा बना रहेगा। पूर्व आर्मी चीफ ने डिफेंस सेक्टर में निजी क्षेत्र को भी प्रोत्साहित करने का समर्थन किया, ताकि इस क्षेत्र में स्वस्थ प्रतिस्पर्धा शुरू हो सके।

जनरल मलिक ने कहा कि “आज तकनीक तेजी से बदल रही है। हमारे सिस्टम की समस्या ये है कि जब कोई इक्विपमेंट किसी खास समय में चाहिए तो उसकी सप्लाई में देर हो जाती है और जब तक वह सेना को मिलता है, तब तक वह तकनीक पुरानी हो चुकी होती है।” रिटायर्ड जनरल वीपी मलिक ने हथियारों की खरीद की प्रक्रिया और इसमें लगने वाले समय पर भी चिंता जाहिर की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 ‘मैंने कोर्ट में तीन बार माफी मांगी, मेरा नाम राहुल गांधी’, सावरकर पर बयान दिया तो ट्रोल्स के निशाने पर आए कांग्रेस नेता
2 ‘उधार का सरनेम लेने से कोई गांधी नहीं होता’, देशभक्त होने के लिए शुद्ध हिन्दुस्तानी खून चाहिए- राहुल पर गिरिराज सिंह का हमला
3 जामिया यूनिवर्सिटी में सभी परीक्षाएं रद्द, 5 जनवरी तक छुट्टी; Citizenship Act के खिलाफ हुआ था हिंसक प्रदर्शन
ये पढ़ा क्‍या!
X