ताज़ा खबर
 

सर्जिकल स्ट्राइक में सेना ने किया था कार्टोसैट 2सी सैटेलाइट की तस्वीर का इस्तेमाल

विशेषज्ञों ने कार्टोसैट 2सी को 'आकाश में भारत की आंख' का नाम दिया है। इस उपग्रह से भारतीय सेना का निगरानी तंत्र और मजबूत हो गया है। यह सेना को 0.65 मीटर्स की हाई रेजॉल्यूशन तस्वीरें उपलब्ध करा रहा है।

कार्टोसैट 2सी को ‘आकाश में भारत की आंख’ का नाम दिया गया है। (फोटो-रायटर्स)

बुधवार की रात PoK में भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक में सैटेलाइट इमेजरी का इस्तेमाल किया गया था। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के सूत्रों के अनुसार – लाइन ऑफ कंट्रोल पर की गई सर्जिकल स्ट्राइक में आर्मी को कार्टोसैट सैटेलाइट से मिली हाई रिजॉल्यूशन तस्वीरों से बड़ी मदद मिली है। कार्टोसैट परिवार का 2C सैटेलाइट इसी साल जून में लॉन्च किया गया था। इसरो सूत्रों ने कहा, “हम सेना को तस्वीरें उपलब्ध करवाते रहे हैं, खासकर आर्मी को । हालांकि मैं इस पर टिप्पणी नहीं कर सकता कि बीते सप्ताह में हमने किसी खास दिन कोई खास तस्वीर भेजी थी। कार्टोसैट इमेज इसी उद्देश्य के लिए होती है और आर्मी ने इनका इस्तेमाल किया है।”

वीडियो देखिए: क्या है सर्जिकल स्ट्राइक की अहमियत

इसरो और रक्षा मंत्रालय का हर अधिकारी इस मामले पर चुप है। कोई भी सर्जिकल स्ट्राइक में सैटेलाइट इमेज के इस्तेमाल पर टिप्पणी करने से बच रहा है। विशेषज्ञों ने कार्टोसैट 2सी को ‘आकाश में भारत की आंख’ का नाम दिया है। इस उपग्रह से भारतीय सेना का निगरानी तंत्र और मजबूत हो गया है। यह सेना को 0.65 मीटर्स की हाई रेजॉल्यूशन तस्वीरें उपलब्ध करा रहा है। कार्टोसैट ने सेना को एरिया ऑफ इंट्रेस्ट बेस्ड तस्वीरें उपलब्ध करवाईं है। एक सूत्र ने बताया कि सेना के अनुरोध पर एरिया ऑफ इंट्रेस्ट को कवर करते हुए एक पॉलिगॉन में करते हुए एक से ज्यादा तस्वीरें भेजी गईं ।

Read Also-पाकिस्‍तानी अखबार ने छापी एलओसी पर तैनात अपने सैनिकों की ‘आंखोंदेखी’, बताई यह कहानी
गौरतलब है कि भारतीय सेना ने बुधवार की रात 12.30 बजे से 4.30 बजे तक 4 घंटों में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर लश्कर-ए-तैयबा के 7 आतंकी ठिकानों को ध्वस्त कर दिया था और 38 आतंकी मार गिराए थे। इस कार्रवाई में पाक सेना के दो जवान भी मारे गए थे।पाकिस्तान ने भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के दावे को झूठ बताया था। उसने कहा कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक नहीं किया बल्कि युद्ध विराम तोड़ा था जिसका करारा जवाब दिया गया था और इस दौरान पाकिस्तान के 2 सिपाही मारे गए थे। पाकिस्तान ने उन सिपाहियों की तस्वीरें भी जारी की थीं। जिन सिपाहियों की मौत हुई वे दोनों हवलदार थे। उनमें से एक का नाम जुम्मा खान था और दूसरे का नाम नाइक इम्तियाज।

Read Also-कश्‍मीर: पीओके में मारे गए पाकिस्‍तानी सैनिकों को दी श्रद्धांजलि, पाकिस्‍तानी झंडा दिखा कर लगाए भारत विरोधी नारे, सिपाहियों पर किया हमला

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App