ताज़ा खबर
 

आंध्र प्रदेश को ‘रणनीतिक बेस’ बनाएगी एयर फोर्स, निशाने पर हैं देश के दुश्मन

पूर्वी तट पर चौकसी मजबूत करने की अपनी रणनीति के तहत वायुसेना ने राजमुंद्री और विजयवाड़ा के नागरिक हवाई अड्डे को अपनी युद्धास्त्रों लड़ाकू और अन्य विमानों की अवस्थिति के लिए इस्तेमाल करने का प्रस्ताव रखा है।

Author September 16, 2018 10:12 PM
भारतीय वायु सेना। प्रतीकात्‍मक चित्र

वायुसेना ने आंध्रप्रदेश को एक रणनीतिक अड्डा बनाने के लिए बड़ी योजनाएं बनायी हैं। उनमें प्रमुख है प्रकाशम जिले के डोनाकोंडा में एक बड़ा हेलीकॉप्टर प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करने की योजना। शीर्ष नौकरशाही सूत्रों के अनुसार आंध्रप्रदेश के समक्ष रखी गयी अन्य योजनाएं अनंतपुर जिले में एक ड्रोन विनिर्माण केंद्र, अमरावती में एक साइबर सुरक्षा केंद्र की स्थापना तथा राजमुंद्री एवं विजयवाडा हवाई अड्डों को अपनी परिसंपत्तियों के वास्ते अवस्थिति केंद्र बनाना है।

इस प्रक्रिया से जुड़े एक शीर्ष नौकरशाह ने कहा, ‘‘अपनी तरफ से, हमने इन परियोजनाओं पर वायुसेना के साथ समन्वय के लिए एक कार्यबल बनाया है। उपयुक्त स्थानों की पहचान के लिए प्राथमिक सर्वेक्षण भी किया गया है और हमने वायुसेना से विस्तृत परियोजना रिपोर्ट सौंपने को कहा है। ’’

पूर्वी तट पर चौकसी मजबूत करने की अपनी रणनीति के तहत वायुसेना ने राजमुंद्री और विजयवाड़ा के नागरिक हवाई अड्डे को अपनी युद्धास्त्रों लड़ाकू और अन्य विमानों की अवस्थिति के लिए इस्तेमाल करने का प्रस्ताव रखा है। फिलहाल वायुसेना का चेन्नई के समीप आरोक्कोनम में अड्डा है और नौसेना का विशाखापत्तनम में आईएनएस डेगा तैनात है।

इन विषयों से जुड़े नौकरशाह ने पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा, ‘‘पूर्वी तट के बढ़ते रणनीतिक महत्व एवं चीन के तेजी से बढ़ने के मद्देनजर वायुसेना का इरादा इस क्षेत्र में अपनी उपस्थिति बढ़ाने का है। आंध्रप्रदेश में परिसंपत्तियों की अवस्थिति की स्थापना रणनीति का हिस्सा है।’’वायुसेना के शीर्ष अधिकारी पहले ही मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू से कम से कम तीन दौर की बातचीत कर इन परियोजनाओं पर चर्चा कर चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App