ताज़ा खबर
 

ऑपरेशन बालाकोट: पाकिस्तानी अखबार ने लाल कृष्ण आडवाणी को कोट करते हुए साधा भारतीय मीडिया पर निशाना, लगाया सत्य की हत्या का आरोप

Indian Air Force Aerial Strike: पाकिस्तान के अखबार डॉन में एक लेख छपा है जिसमें भारतीय मीडिया को झूठा बताते हुए कई बातें लिखी गई हैं। इस लेख में लिखा गया है कि मंगलवार को भारतीय मीडिया चैनलों पर एक भी चैनल ने दोनों तरफ की असलियत नहीं पता लगाना चाहते थे।

Author February 27, 2019 10:13 AM
बीजेपी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी को पाकिस्तान अखबार डॉन ने कोट किया है। (फोटो सोर्स: एक्सप्रेस आर्काइव)

Indian Air Force Aerial Strike: जम्मू कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले का मुंहतोड़ जवाब देते हुए भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान में एयरस्ट्राइक की। 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना के 12 मिराज-2000 के जरिए बालाकोट में कैंपों पर एयर स्ट्राइक कर कम से कम 300 आतंकी को मार गिराया ।भारत की इस कार्रवाई से पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है। पाकिस्तान ने यह तो मान लिया है कि भारतीय वायु सेना के विमान पाकिस्तान की सीमा में घुस आए लेकिन पाकिस्तान इस बात को मानने से इंकार कर रहा है कि किसी प्रकार के जान माल का नुकसान हुआ है। पाकिस्तानी मीडिया में इस एयर स्ट्राइक की भारत में की जा रही रिपोर्टिंग को सत्य की हत्या बताया जा रहा है।

पाकिस्तान के अखबार डॉन में एक लेख छपा है जिसमें भारतीय मीडिया को झूठा बताते हुए कई बातें लिखी गई हैं। इस लेख में लिखा गया है कि मंगलवार को भारतीय मीडिया चैनलों पर एक भी चैनल ने दोनों तरफ की असलियत नहीं पता लगाना चाहते थे। चैनल पर दिनभर देशभक्ति की बातें की जा रही थी। भारतीय राजनीतिक पार्टियों पर आरोप लगाते हुए लिखा गया है कि जब मीडिया चैनल बड़े उद्योगपितयों का हो और उन उद्योगपतियों का संबंध राजनीतिक पार्टियों से हो तो पत्रकार क्या कर सकते हैं। इस लेख में आपातकाल के समय में जनसंघ के नेता लालकृष्ण आडवाणी के बयान ‘ उन्होंने आपसे झुकने के लिए कहा था , लेकिन आप को रेंगने लगे’ का हवाला देते हुए भारतीय मीडिया पर निशाना साधा है। दरअसल, लालकृष्ण आडवानी ने यह बयान आपातकाल के समय माीडिया और इंदिरा गांधी पर निशाना साधते हुए दिया था। पाकिस्तान का कहना है कि भारतीय मीडिया का हाल इस समय कुछ ऐसा ही है।

“अगर हमला हुआ है तो तस्वीरें कहां हैं?”
बालाकोट में हुए एयरस्ट्राइक को लेकर इस लेख में कई सवाल उठाए गए हैं। तस्वीरों को लेकर लिखा गया है कि अगर बालाकोट में हमला हुआ तो फिर हमले कि तस्वीरें कहां हैं? मिराज-2000 को अपने टारगेट की तस्वीर लेने के लिए जाना जाता है। एक चैनल का कहना है कि मौसम खराब था वहीं दूसरे चैनल का कहना है कि तस्वीरें अभी प्रक्रिया में हैं। एक सरकार का पक्ष रखने वाला एक शख्स इसके अलावा, आर्मी का एक अफसर कोई मंत्री या सांसद के साथ चैनलों पर वहीं पुराने सवाल जवाब वाले तरीके की बहस चल रही है। बता दें कि भारत ने 14 फरवरी को हुए हमले के 12 दिनों के अंदर ही  बदला ले लिया। भारत ने पाकिस्तान के जैश ए मुहम्मद के कई ठिकानों को तबाह कर दिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X