ताज़ा खबर
 

UP-बिहार व गुजरात नहीं, नरेंद्र मोदी सरकार में असम-मेघालय कैडर के IAS अधिकारियों का है बोलबाला

असम और मेघालय कैडर के अलावा अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश (एजीएमयूटी) के कैडरों का भी इस बाबत (सरकार में वरिष्ठ पदों पर) ठीक-ठाक प्रतिनिधित्व है।

Author नई दिल्ली | August 13, 2019 7:57 PM
डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) के मुताबिक, केंद्र सरकार में ज्वॉइंट सेक्रेट्री और उससे ऊपर की रैंक के कुल 370 आईएएस अधिकारियों में 33 असम और मेघालय कैडर से हैं। (फाइल फोटोः पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में देश के उत्तर पूर्वी राज्यों के कैडरों से ताल्लुक रखने वाले भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारियों का बोलबाला है। इनमें असम और मेघालय कैडर शामिल हैं, जिनसे जुड़े अधिकारी राजधानी नई दिल्ली में मोदी सरकार के प्रशासनिक दफ्तरों में शीर्ष पदों पर तैनात हैं। ऐसा तब हुआ है, जब देश के उत्तर पूर्वी राज्य आमतौर पर राष्ट्रीय स्तर की राजनीति और शासन-प्रशासन व्यवस्था जैसी चीजों में अधिक नहीं रहते।

ताजा मामले में एक जुलाई, 2019 तक भारत सरकार के आंकड़ों के अनुसार 33 अधिकारी असम और मेघालय कैडर से, 27 यूपी कैडर से, 25 मध्य प्रदेश कैडर से, 22 बिहार कैडर से और 24 केरल कैडर से हैं। ये बातें हाल ही में सूचना के अधिकार (आरटीआई) के जरिए सामने आई हैं।

डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड ट्रेनिंग (डीओपीटी) के मुताबिक, केंद्र सरकार में ज्वॉइंट सेक्रेट्री और उससे ऊपर की रैंक के कुल 370 आईएएस अधिकारियों में 33 असम और मेघालय कैडर से हैं। इन दोनों राज्यों के कैडरों के अधिकारियों के बाद सूची में यूपी कैडर का नाम आता है, जो कि देश का सबसे बड़ा राज्य है और विस्तार से उसके पास सबसे बड़ा सेंट्रल डेप्यूटेशन रिजर्व (सीडीआर) भी है।

सीडीआर यह बताता है कि आखिर किस सीमा तक सरकार डेप्यूटेशन के लिए अधिकारियों को भेज सकती है। ज्वॉइंट सेक्रेट्री, एडिश्नल सेक्रेट्री और सेक्रेट्री के स्तर पर केंद्र सरकार में यूपी कैडर से कुल 27 अधिकारी कार्यरत हैं। वहीं, 74 अधिकारियों के सीडीआर होने के बाद भी ज्वॉइंट सेक्रेट्री रैंक में मौजूदा समय में बिहार कैडर से 22 अधिकारी हैं।

असम और मेघालय कैडर के अलावा अरुणाचल प्रदेश, गोवा, मिजोरम और केंद्र शासित प्रदेश (एजीएमयूटी) के कैडरों का भी इस बाबत (सरकार में वरिष्ठ पदों पर) ठीक-ठाक प्रतिनिधित्व है। इसी तरह, छोटा सीडीआर और आकार होने के बाद भी मणिपुर, त्रिपुरा, नागालैंड और सिक्किम कैडर से भी क्रमशः 10, 11, आठ और चार अधिकारी केंद्र सरकार में ज्वॉइंट सेक्रेट्री रैंक पर हैं।

दरअसल, दिल्ली स्थित केंद्र सरकार के विभागों में शीर्ष पदों पर शुरू से ही यूपी, बिहार और गुजरात कैडर के अधिकारियों का दबदबा रहा है। इस धारणा को ऐसे भी हवा मिलती है कि यूपी देश का सबसे बड़ा सूबा है और वहां पर बीजेपी की अच्छी-खासी पकड़ है। वहीं, कहा जाता है कि बिहार से नाता रखने वाले मोदी सरकार में अहम पदों पर आसीन हैं, जबकि मान्यता है कि गुजरात खुद पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह का गृह राज्य है, इसलिए वहां के कैडर के अधिकारी अधिक चुने जाते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 बहस के दौरान टीवी एंकर ने पैनलिस्ट से पूछा- आपको जम्मू कश्मीर पुलिस ने फोन किया क्या कि हमें 370 हटने का दुख है?
2 नरेंद्र मोदी सरकार के 89 सचिवों में नहीं कोई OBC, SC से एक और ST से 3 हैं नौकरशाह
3 अनुच्छेद 370 हटाने के तरीके पर प्रियंका गांधी ने उठाए सवाल, बोलीं- यह असंवैधानिक है, नहीं हुआ नियमों का पलान