ताज़ा खबर
 

इंडिया टुडे ने राजदीप सरदेसाई को ऑफ एयर किया, एक महीने की सैलरी भी काटी; पत्नी बोलीं- इस चक्कर में असल मुद्दा ही भुला दिया

ऑफ एयर किए जाने पर राजदीप की पत्नी सागरिका घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे और 24 वर्षीय मृतक किसान को ही भुला दिया है।

गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई थी हिंसा। (एक्सप्रेस फोटो- अनिल शर्मा)

26 जनवरी को हुए ट्रैक्टर परेड में हिंसा को लेकर वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने एक ट्वीट किया था। इसी ट्वीट की वजह से राजदीप को दो हफ्ते के लिए ऑफ़ एयर कर दिया गया है और साथ ही उनकी एक महीने की सैलरी भी काट ली गयी है। ऑफ एयर किए जाने पर राजदीप की पत्नी सागरिका घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे और 24 वर्षीय मृतक किसान को ही भुला दिया है।

दरअसल 26 जनवरी को आंदोलनकारी किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाला था जिसके दौरान दिल्ली में हिंसा भी हुई थी। दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि इस हिंसा में उनके करीब 300 जवान जख्मी हो गए हैं। प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत भी हो गयी थी। हालाँकि तब ये साफ़ नहीं हुआ था कि आखिर किन कारणों की वजह से किसान की मौत हुई है। लेकिन वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट करते हुए लिख दिया था कि किसान नवनीत सिंह की मौत आईटीओ के पास पुलिस फ़ायरिंग में हुई है। जिसके बाद इसी ट्वीट के कारण इंडिया टुडे ग्रुप ने उन्हें दो हफ़्तों के लिए ऑफ एयर कर दिया है और उनकी एक महीने की सैलरी भी काट ली है।

राजदीप को ऑफ एयर किये जाने पर उनकी पत्नी सागरिका घोष ने बचाव करते हुए ट्विटर पर लिखा है कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे को ही खो दिया है। सागरिका ने ट्वीट करते हुए लिखा कि तेजी से बदलती कहानियों में हर समय कुछ ना कुछ परिवर्तन होता रहता है। साथ ही सागरिका ने यह भी लिखा कि उस स्टोरी को मिनटों में ही ठीक कर दिया गया था लेकिन चिंता की बात यह है कि हमने इन सब के दौरान वास्तविक मुद्दों को ही खो दिया और 24 वर्षीय किसान की मौत को भी पीछे छोड़ दिया।

हालाँकि सागरिका के इस ट्वीट पर कई यूजर ने जमकर प्रतिक्रिया दी. एक यूजर ने सागरिका के ट्वीट का जवाब देते हुए कहा कि वे कैमरे पर लोगों के बीच जाकर कहते हैं कि उन्होंने किसान के माथे पर लगी पुलिस की गोली देखी है। यह पत्रकारिता नहीं है साथ ही यह एक तरह की लापरवाही है। वहीँ मौलिक शाह नाम के एक यूजर ने सागरिका को जवाब देते हुए लिखा है कि हमें कहानी मत बताइए। हम सच की उम्मीद करते हैं जिनके लिए राजदीप को पैसे भी मिलते हैं।  

Next Stories
1 आप ने बदली नीति, सदस्यों के रिश्तेदारों को भी मिलेगा टिकट; कहा- पार्टी के विस्तार में आ रही थी दिक्कत
2 मैं नहीं, पूरे देश का किसान रो रहा है : टिकैत
3 टिकैत, योगेंद्र यादव, मेधा पाटकर सहित 44 किसान नेताओं के खिलाफ लुकआउट नोटिस, 37 पर हिंसा में प्राथमिकी दर्ज
ये पढ़ा क्या?
X