ताज़ा खबर
 

पाक के इस कदम के बाद भारत ने दिखाई दरियादिली, जेलों में बंद 39 पाकिस्तानी कैदियों को एक मार्च को करेगा रिहा

सरकार का मानना है कि बातचीत शुरू करने के लिए यह सही समय है। बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच शांति और दोस्ती की प्रक्रिया लंबे समय से बंद है।

Author नई दिल्ली। | February 28, 2017 10:30 AM
पाकिस्तान द्वारा भारतीय जवान को छोड़ने के बाद भारत ने दिखाया दोस्ताना रवैया। (File Photo)

पाकिस्तान की ओर से दोस्ती के संकेत मिलने के बाद भारत ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है। सरकार ने भारतीय जेलों में बंद 39 पाकिस्तानी कैदियों को रिहा करने का फैसला किया है। रिहा किे जाने वाले कैदियों में 21 कैदी अपनी सजा पूरी कर चुके हैं और 18 मछुआरे हैं। पाकिस्तान की ओर से कुछ दिन पहले भारतीय जवान बाबूलाल चाह्वण को रिहा कर दिया गया था। बाबूलाल गलती से नियंत्रण रेखा पार कर गया था। जिसके बाद भारत ने यह कदम उठाया है। भारत में पाकिस्तान के हाई कमिश्नर अब्दुल बासित ने कहा था- “पाकिस्तान उम्मीद करता है कि भारत लंबे समय से जेल में बंद 33 पाकिस्तानी कैदियों को रिहा करता है।” टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में एक अधिकारी ने बताया कि हमने कैदियों की पहचान कर ली है और पाकिस्तान ने उन्हें अपने नागरिक होने की बात स्वीकार कर ली है। कैदियों को 1 मार्च को रिहा किया जाएगा।

जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद को नजरबंद किए जाने पर भारत ने प्रतिक्रिया दी। सरकार का मानना है कि बातचीत शुरू करने के लिए यह सही समय है। बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच शांति और दोस्ती की प्रक्रिया लंबे समय से बंद है। भारत काफी पहले से कहता आ रहा है कि आतंकी संगठन पर कार्रवाई किए बिना शांति वार्ता की शुरुआत नहीं की जा सकती। भारत, पड़ोसी देश के सामने अपना स्टैंड क्लियर कर चुका है। पाकिस्तान द्वारा हाल ही में आतंकवाद के खिलाफ उठाए गए कदमों को इसी दिशा में किया गया प्रयास माना जा रहा है।

हाल ही में एक उच्च सरकारी अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में कहा था कि एलओसी पर सीजफायर उल्लंघन और कश्मीर के हालात सुधारने को लेकर भारत पाकिस्तान के साथ शांति वार्ता करने को तैयार है, लेकिन इस बार भारत तय करेगा कि वह किस समय और कहां बातचीत करेगा। अधिकारी के मुताबिक पाकिस्तान के साथ अभी किसी भी स्तर पर बातचीत नहीं की जा रही है और न ही भारत तुरंत किसी तरह की बातचीत करना चाहता है। जब तक भारत इस बात से आश्वस्त नहीं हो जाता कि उसे इस बातचीत से कुछ फायदा हासिल होने जा रहा है तब तक बात शुरू नहीं की जाएगी। अधिकारी के मुताबिक भारत दोनों देशों के बीच शांति बनाए रखने को पसंद करता है लेकिन अब बातचीत हमारी शर्तों पर होगी।

वीडियो: लश्कर-ए-तैयबा के संगठन FIF के पाकिस्तान में चल रहे हैं बैंक खाते

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App