ताज़ा खबर
 

भारत ने किया आकाश मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत ने आज जमीन से हवा में वार करने वाली स्वदेशी मिसाइल आकाश का सफल परीक्षण किया है। यह मिसाइल करीब 25 किलोमीटर दूर दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को भेद सकती है।

Author बालासोर | Updated: January 28, 2016 8:16 PM
Akash missiles, DRDO, Air forceअमेरिकी एमआईएम-104 पैट्रियट मिसाइल की तुलना में आकाश में लड़ाकू विमानों, क्रूज मिसाइलों और हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइलों को भेदकर गिराने की क्षमता है।

भारत ने आज चांदीपुर इंटीग्रेटेड टेस्ट रेंज (आईटीआर) में जमीन से हवा में वार करने वाली स्वदेशी मिसाइल आकाश का सफल परीक्षण किया। इस मिसाइल को डिफेंस रिसर्च एंड डवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) ने विकसित किया है।

इस मौके पर एक सेना अधिकारी ने बताया कि वायु सेना के अधिकारियों ने लक्ष्यों पर निशाना साधकर तीन दौर में टेस्टिंग की जो सफल रही। आकाश 25 किलोमीटर तक मार करने और 60 किलोग्राम गोला-बारूद लेकर जाने की क्षमता रखती है। मिसाइल का टेस्टिंग आईटीआर के टेस्टिंग रेंज-3 में सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक की गई।

आकाश मिसाइल में रामजेट-रॉकेट संचालन प्रणाली लगाई गई है। इस मिसाइल को इंटीग्रेटिड गाइडेड मिसाइल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत विकसित किया गया है।यह 2.8 से 3.5 मैक की सुपरसोनिक गति से उड़ान भर सकती है और करीब 25 किलोमीटर तक की दूरी के हवाई लक्ष्यों को भेद सकती है।

इस मिसाइल को जुलाई 2015 में वायु सेना में शामिल किया गया था। अमेरिकी एमआईएम-104 पैट्रियट मिसाइल की तुलना में आकाश में लड़ाकू विमानों, क्रूज मिसाइलों और हवा से सतह पर मार करने वाली मिसाइलों को भेदकर गिराने की क्षमता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मालदा में फिर हिंसा: ट्यूशन से लौट रहे छात्र को बस ने कुचला, गुस्साई भीड़ ने दुकानों में लगाई आग
2 यूपी: छात्रा ने 25 साल की मह‍िला से की ‘शादी’, पुलिस ने कहा-दोनों वयस्‍क, साथ रहने से रोक नहीं सकते
3 सोलर स्कैम: केरल के सीएम ओमन चांडी के खिलाफ FIR दर्ज करने के आदेश
ये पढ़ा क्या?
X